DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंक पर वोट की चोट

जम्मू-कश्मीर और झारखंड में दूसरे चरण के मतदान में मंगलवार को मतदाताओं ने वोट की चोट से आतंकवाद व नक्सलवाद को करारा जवाब दिया। जम्मू-कश्मीर में 18 सीटों पर 71 प्रतिशत वोट पड़े, वहीं झारखंड में 20 सीटों पर 65.46 फीसदी मतदान हुआ। छत्तीसगढ़ में एक दिन पहले 14 जवानों की जान लेने वाले नक्सलियों को मतदाताओं ने ठेंगा दिखा दिया।

शांतिपूर्ण रहा मतदान: चुनाव आयोग के मुताबिक जम्मू-कश्मीर और झारखंड में मतदान शांतिपूर्ण रहा। हालांकि जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में कुछ युवकों ने चुनाव का बहिष्कार करते हुए पथराव किया पर उससे मतदान पर कोई असर नहीं पड़ा। झारखंड में 70 प्रतिशत बूथ संवेदनशील या अतिसंवेदनशील थे जिसे देखते हुए कड़े सुरक्षा प्रबंध किए गए थे।

नक्सली धमकी बेअसर
झारखंड के जिन सात जिलों में मतदान हुआ, उनमें खूंटी, सिमडेगा और पश्चिमी सिंहभूम नक्सलग्रस्त हैं लेकिन यहां नक्सली धमकी का असर नहीं पड़ा।

पुंछ, कुपवाड़ा में बरसे वोट
जम्मू-कश्मीर में सीमा पार की गोलीबारी से प्रभावित पुंछ में 75% और कुपवाड़ा में 68% मतदान हुआ। जबकि अलगाववादियों ने मतदान बहिष्कार का आह्वान किया था।

इनके जज्बे को सलाम
पाक गोलीबारी की परवाह न करते हुए सरपंच मोहम्मद आजम 310 लोगों के साथ पुंछ के अति संवेदनशील मतदान केंद्र पर पहुंचे। 

120 वर्षीय आलम दीन नामक व्यक्ति ने अपने इलाके के विकास के लिए पुंछ जिला स्थित सलतोरी में मतदान किया। उन्हें उनके परिवार के सदस्य दो किलोमीटर पैदल चलकर मतदान कराने लाए थे।

कश्मीर में जोश कायम
68.79% वोट 2009 विधानसभा चुनाव में इन 18 सीटों पर पड़े थे
71% मतदान 2014 विधानसभा चुनाव के पहले चरण में हुआ था

झारखंड में रिकॉर्ड टूटा
58% वोट पड़े थे 2009 विधानसभा चुनाव के दौरान इन 20 सीटों पर
62% मतदान 2014 विधानसभा चुनाव के पहले चरण में हुआ था
9 दिसंबर को तीसरा चरण
87 सीटों में 33 पर मतदान हो चुका है जम्मू-कश्मीर में
81 में 33 सीटों पर मतदान हो चुका है झारखंड में दो चरण में
23 दिसंबर को झारखंड व जम्मू-कश्मीर चुनाव के नतीजे आएंगे

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आतंक पर वोट की चोट