DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एकाउंट अफसर ने लिंक एक्सप्रेस की नीचे आकर दी जान

रेलवे में भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने पर दलालों और कुछ अफसरों के निशाने पर आए एकाउंट अफसर सुनील कुमार बलूनी ने मंगलवार दोपहर में लिंक एक्सप्रेस के नीचे आकर जान दे दी। पुलिस ने बलूनी की जेब से तीन पेजों का सुसाइड नोट बरामद किया है। इसमें उन्होंने अपनी मौत के लिए रेलवे के अधिकारी सत्येंद्र और हेमंत वासुदेव के अलावा पार्सल सेवा में सक्रिय दलाल सहगल का नाम लिखा है।


प्रेमनगर पंडितवाड़ी निवासी 42 वर्षीय एकाउंट अधिकारी सुनील कुमार बलूनी ने मंगलवार दोपहर पौने दो बजे हरिद्वार बाईपास पुलिस चौकी के पास लिंक एक्सप्रेस के नीचे आकर आत्महत्या कर ली। सुनील को दो सप्ताह पहले रेलवे विजिलेंस ने छह हजार रुपये घूस लेने के आरोप में पकड़ा था। तब से वह निलंबित चल रहे थे। मामले की विभागीय जांच के लिए बलूनी को दिल्ली के बडोदरा हाउस स्थित रेलवे भवन में बुलाया गया था। चार दिन दिल्ली में उच्च अधिकारियों को अपनी सफाई देने के बाद बलूनी मंगलवार सुबह ही मसूरी एक्सप्रेस से देहरादून लौटे थे। इसके बाद वह घर गए और फिर सुबह दस बजे ऑफिस के लिए निकल गए। सूत्रों के मुताबिक कुछ देर रेलवे स्टेशन स्थित अपने ऑफिस में बिताने के बाद वह बाइक से बाईपास पहुंचे। यहां उन्होंने देहरादून से छूटी लिंक एक्सप्रेस के नीचे आकर जान दे दी। बलूनी के लहू लुहान शव के जेब से पुलिस को तीन पेज का सुसाइड नोट मिला है।


बाईपास चौकी प्रभारी प्रवीन सिंह ने बताया कि सुसाइड नोट में बलूनी ने अपनी मौत के लिए रेलवे में सक्रिय किसी दलाल सहगल के अलावा रेलवे अफसर सत्येंद्र और हेमंत वासुदेव को जिम्मेदार ठहराया है।  एसपी सिटी अजय सिंह ने बताया कि पंचनामा भरने के बाद शव पीएम को भेज दिया है। घटना की जांच शुरू कर दी है। जल्द मुकदमा दर्ज होगा। इधर घटना की सूचना पर देहरादून से लेकर दिल्ली तक रेलवे विभाग में हड़कंप मच गया है। मौके पर रेवले के कई अफसर भी पहुंचे, जिन्होंने अफसर की मौत पर दुख जताया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एकाउंट अफसर ने लिंक एक्सप्रेस की नीचे आकर दी जान