DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अश्वेतों को लगता है कि वे भेदभाव के शिकार: ओबामा

अश्वेतों को लगता है कि वे भेदभाव के शिकार:  ओबामा

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने स्वीकार किया है कि देश में अश्वेत युवक महसूस करते हैं कि उनके साथ उचित व्यवहार नहीं हो रहा है। ओबामा ने फार्ग्यूसन गोलीबारी मामले के बाद पुलिस व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त बनाने के लिए कदम उठाते हुए यह स्वीकार किया।

ओबामा ने व्हाइट हाउस में कल कहा कि मुझे लगता है कि फार्ग्यूसन ने एक समस्या को बेनकाब किया है जो ना तो सेंट लुइस या उस क्षेत्र के लिए अनोखी है और ना ही हमारे समय के लिए अनोखी है। इस घटना से पुलिस विभागों और अश्वेत समुदायों के बीच अविश्वास पनपा है।

ओबामा ने कहा कि एक ऐसे देश में जहां कानून के तहत हमारी बुनियादी सिद्धांतों में से एक और शायद सबसे महत्वपूर्ण सिद्धांत समानता है,  ढेर सारे लोग,  खास तौर पर अश्वेत समुदाय के युवक यह महसूस नहीं करते हैं कि उनके साथ उचित व्यवहार हो रहा है।

ओबामा ने श्वेत पुलिस अधिकारी द्वारा एक निहत्थे अश्वेत व्यक्ति की हत्या से जुड़े फार्ग्यूसन गोलीबारी मामले में कई बैठकें की। इस घटना के कारण देश में अशांति फैल गई है। ओबामा ने एक कार्यबल की घोषणा की जो 90 दिन के अंदर समुदायों के साथ बेहतरीन व्यवहार पर उन्हें सिफारिश करेगा।

उन्होंने शरीर पर लगाए जाने वाले कैमरे खरीदने और बेहतर प्रशिक्षण के लिए कानून प्रवर्तन एजेंसियों के लिए 26. 3 करोड़ डॉलर के कोष की घोषणा की। उन्होंने कहा कि जब अमेरिकी परिवार का एक हिस्सा महसूस करता है कि उसके साथ उचित व्यवहार नहीं हो रहा है,  तो यह हम सभी के लिए एक समस्या है। यह सिर्फ कुछ लोगों की समस्या नहीं है। यह सिर्फ किसी खास समुदाय या आबादी के किसी खास हिस्से की समस्या नहीं है। इसका मतलब है कि हम एक देश के रूप में उतना मजबूत नहीं है जितना हम हो सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अश्वेतों को लगता है कि वे भेदभाव के शिकार: ओबामा