DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मौद्रिक नीति पर ढुलमुल रवैया नहीं अपनाना चाहता: राजन

मौद्रिक नीति पर ढुलमुल रवैया नहीं अपनाना चाहता:  राजन

रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन ने मंगलवार को पेश मौद्रिक नीति की द्वैवार्षिक समीक्षा में यथास्थिति बनाए रखने के निर्णय को सही ठहराते हुए कहा कि वह नीति के मामले में ढुलमुल रवैया नहीं अपना चाहते। राजन ने स्पष्ट कहा कि वह नीतिगत ब्याज दर को कम करने से पहले विभिन्न कारकों,  खास कर मुद्रास्फीति को लेकर सुनिश्चित होना चाहते हैं।

राजन ने कहा कि मौद्रिक नीति की प्रस्तावित नई व्यवस्था के विषय में सरकार से बातचीत चल रही है और जनवरी 2016 और उसके आगे (खुदरा)  मुद्रास्फीति को चार प्रतिशत से दो प्रतिशत ऊपर या नीचे के दायरे में सीमित करने का लक्ष्य रखा गया है। गवर्नर राजन ने पांचवीं द्वैमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा पेश करने के बाद कहा कि हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि मुद्रास्फीति में कमी अपने रास्ते पर चलती रहे।

पांच साल की ऊंची मुद्रास्फीति के बाद हल्की मुद्रास्फीति के अभी कुछ ही महीने बीते हैं। हम चाहते हैं कि यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि यह कमी वास्तविक है,  क्योंकि हम ढुलमुल रवैया अपनाना नहीं चाहते। उन्होंने कहा कि केंद्रीय बैंक अपने नीतिगत रुख में कोई बदलाव करने से पहले मुद्रास्फीति की गति के बारे में अधिक सुनिश्चितता होना चाहता है।

राजन ने जोर देकर कहा कि एक बार अपना नीतिगत रुख बदलने के बाद केंद्रीय बैंक की एक सीधी चाल होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते कि एक मौद्रिक बैठक में ब्याज दरों में कटौती की जाए,  और अगली बार उसे बढ़ाना पड़े।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मौद्रिक नीति पर ढुलमुल रवैया नहीं अपनाना चाहता: राजन