DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आजाद हिन्द फौज के सेनानी अल्लाबख्श का निधन

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के आजाद हिन्द फौज के सेनानी के तौर पर द्वितीय विश्व युद्ध(1939-45) में शामिल रह चुके अल्लाह बख्श का रविवार को हद्यगति रुक जाने से इंतकाल हो गया। वह लम्बे समय से बीमार चल रहे थे। रविवार की देर शाम को उन्हें सुपुर्दे खाक कर दिया गया।

अल्लाह बख्श की सबसे छोटी पुत्री जमीला के अनुसार उनके अब्बा की उम्र सौ साल के आसपास थी। मूल रूप से सदर बाजार वाराणसी के रहने वाले अल्लाह बख्श मिर्जापुर और फिर उसके बाद सोनभद्र आ गए। वह राबट्र्सगंज कोतवाली क्षेत्र के रौप गांव में 1950 के दशक में आकर बस गए। इसी दशक में चुर्क में शुरू सीमेण्ट फैक्ट्री में काम करना शुरू कर दिया। इससे पहले युवावस्था में आजादी से पहले वह नेताजी सुभाष चन्द्र बोस से प्रभावित होकर आजाद हिन्द फौज में शरीक हुए। फौज में रहते हुए उन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध में एक सैनिक की तरह भाग लिया। इसके लिए उन्हें द्वितीय विश्वयुद्ध सैनिक कल्याणकारी संघटन, सांगली, महाराष्ट्र की ओर से सम्मानपत्र भी दिया जा चुका है। उनके परिवार में चार लड़के और दो लड़कियां हैं। इसमें एक पुत्र और एक पुत्री अविवाहित हैं। 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आजाद हिन्द फौज के सेनानी अल्लाबख्श का निधन