DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैदी की मौत से जेल प्रशासन में हड़कम्प

एनडीपीएस के एक मामले में सजायाफ्ता कैदी की मौत से जेल प्रशासन में हड़कंप मचा है। जिला अस्पताल में इलाज के दौरान सोमवार को कैदी की मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने जेल अधिकारियों पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
खरेला थाना क्षेत्र के पहरेथा गांव निवासी शिवनारायण नशीली गोलियां रखने के आरोप में पकड़ा गया था। कोर्ट में चल रहे इस मुकदमें में दो साल पहले विद्वान न्यायाधीश ने आरोप सिद्ध होने पर तीन साल की सजा सुनाई थी। तब से शिवनारायण जेल में निरूद्ध था। एक महीना पहले उसकी हालत बिगड़ने पर जेल प्रशासन द्वारा उसका इलाज जिला अस्पताल में कराया गया। सुधार न होने पर उसे एक बार झांसी मेडिकल कॉलेज भी ले जाया गया था। पांच दिन पहले शिवनारायण की हालत एक बार फिर बिगड़ गई। रविवार को खून की उल्टियां होने पर जेल प्रशासन ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। सोमवार की दोपहर शिव नारायण की इलाज के दौरान मौत हो गई। कैदी की मौत की खबर फैलते ही जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। आरोप है कि उसका समय से इलाज नहीं कराया गया।

सूचना मिलते ही जिला अस्पताल पहुंचे मृतक के भाई शिवकुमार और परिवार के अन्य सदस्यों ने जेल प्रशासन पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। शिव कुमार का कहना था कि उसके भाई की हालत बिगड़ने पर जेल के  सिपाही इलाज कराने झांसी तो ले गए लेकिन महज चेकअप करा खानापूर्ति करते हुए उसे फिर जेल में डाल दिया गया। नियमित इलाज न मिलने से उसकी मौत हो गई। उसकी मौत से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। उधर जेलर आनंद सिंह परिजनों द्वारा लगाए जा रहे आरोपों को खारिज किया और कहा कि कैदी का समय-समय पर इलाज कराया गया। इसी के चलते उसे दो दिन पहले भी जिला अस्पताल भेजा गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैदी की मौत से जेल प्रशासन में हड़कम्प