DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएसएनएल अफसर का बेटा बरामद, पांच अपहर्ता गिरफ्तार

बीएसएनएल अफसर का बेटा बरामद, पांच अपहर्ता गिरफ्तार

शनिवार शाम को जीएमएस रोड से किडनैप किए गए बीएसएनएल अधिकारी के बेटे हर्षित तायल को पुलिस ने सोमवार सुबह सकुशल बरामद कर लिया। इसके कुछ घंटे बाद ही नाटकीय तरीके से पुलिस ने पांचों अपहर्ताओं को हरिद्वार के जगजीतपुर से फिरौती के रूप में वसूली गई 34 लाख रुपये की रकम के साथ धर दबोचा। पुलिस का कहना है कि अपहरणकर्ता असल में राजकीय निर्माण निगम के अफसर आरके राजा के बेटे को किडनैप करने आए थे। उन्होंने धोखे से हर्षित का अपहरण कर लिया था।

मुजफ्फरनगर में तैनात बीएसएनएल के हिन्दी अधिकारी गिरीश तायल का परिवार वसंत विहार थाना क्षेत्र के इंजीनियर एन्क्लेव में रह रहा है। शानिवार शाम जब उनका बेटा हर्षित तायल (17) फोन रिचार्ज कराने गया था तो जीएमएस रोड से बदमाशों ने करीब साढ़े सात बजे उसका अपहरण कर लिया। फिर परिवार से पांच करोड़ की फिरौती मांगी थी। अपहरण के बाद करीब बाद करीब 36 घंटे तक पुलिस के साथ आंख-मिचौली खेलने वाले बदमाशों ने रविवार रात फिरौती के 34 लाख मिलने के बाद सोमवार तड़के हर्षित को हरिद्वार-ज्वालापुर सब्जीमंडी के पास छोड़ दिया। यह रकम हर्षित के पिता गिरीश तायल ने बदमाशों के बताए गए स्थान पर मोतीचूर फाटक के पास रविवार रात को करीब 12 बजे रखी थी।

डीआईजी संजय गुंज्याल ने सोमवार को एसएसपी कार्यालय में आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस में बताया कि इसके चंद घंटे बाद ही पुलिस और एसटीएफ ने ज्वाइंट ऑपरेशन को अंजाम देते हुए पांचों आरोपियों को हरिद्वार के जगजीतपुर गांव से गिरफ्तार कर लिया। उनसे फिरौती की रकम भी बरामद हो गई। आरोपियों में एक ही परिवार के पिता, बेटा और बेटी शामिल हैं। पुलिस के अनुसार इस परिवार ने ही अपनी आर्थिक तंगी से निजात पाने के लिए किडनैप का जाल बुना था। हालांकि वे असल में दून में ही जीएमएस रोड पर रहने वाले यूपी निर्माण निगम के इंजीनियर आरके राजा के बेटे का अपहरण करने के लिए आए थे, लेकिन पहचान में चूक के चलते उन्होंने हर्षित को उठा लिया। इनके साथ पंजाब के दो अन्य युवक भी घटना में शामिल रहे।

ये हैं आरोपित
संजय बालियान 48, निवासी ग्राम किनौनी, शाहपुर मुजफ्फरनगर
संजय की 22 साल की बेटी मीनाक्षी और 21 साल का बेटा आशीष
डेनियल, गुरदासपुर पंजाब (सीएमआई अस्पताल देहरादून में वार्ड ब्वॉय का काम करता है।)
सरनजीत सिंह, उर्फ पिच्छू, निवासी नंगली, अमृतसर पंजाब

टीम वर्क से मिली सफलता
डीआईजी गढ़वाल संजय गुंज्याल ने कहा कि अपहरण और फिरौती की इस घटना में सफलता पाना पुलिस ने लिए बड़ी चुनौती थी। लेकिन अफसरों व पुलिस कर्मियों ने दिनरात एक करते सिर्फ 36 घण्टे में सफलता हासिल की। उन्होंने कहा कि कामयाबी की सबसे बड़ी बात यह रही कि बदमाशों को सलाखों के पीछे डाला गया और अपहृत लड़का सुरक्षित परिजनों के पास पहुंच गया है।

अपराध के नए तरीके अपनाए
खुलासे में अहम रोल निभाने वाले एसएसपी एसटीएफ डा. सदानंद दाते ने बताया कि अपहरण व फिरौती मांगने वाले बदमाश पूरी तरह से नए थे। इनका आपराधिक बैकग्राउंड नहीं था। बावजूद इसके इन्होंने पुलिस के साथ खूब चालाकी खेली। एक फोन से लड़के की आवाज रिकॉर्ड कर दूसरे से परिजनों को सुनाई। एक से ज्यादा फोन का इस्तेमाल किया। लेकिन टीम ने आरोपी को समय पर दबोच लिया। इसमें समय पर टास्क का निर्णय एवं उच्चाधिकारियों का मार्गदर्शन जरूरी था। बदमाशों ने अपहरण व फिरौती के दौरान जिस तरह से अपराध के नए तरीके अपनाए हैं, उससे पुलिस को आगे सतर्क रहने की जरूरत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीएसएनएल अफसर का बेटा बरामद, पांच अपहर्ता गिरफ्तार