DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रशिक्षण हॉकी या अनैतिकता का

पैसे लेकर खिलाड़ी को खेल के मैदान में उतारने की बात पहली बार सामने आकर सार देश को चौंकाया है। यह बात न केवल हॉकी फेडरशन, बल्कि समूचे देश के लिए शर्मनाक है। इस प्रकरण से यह भी साबित होता है कि हॉकी की ऐसी दुर्गति के लिए सिर्फ क्रिकेट की लोकप्रियता ही जिम्मेदार नहीं है, बल्कि इस राष्ट्रीय खेल के कर्ताधर्ता ही इस खेल को जब खुले बाजार में बेच रहे हों तो फिर ईश्वर ही मालिक। खिलाड़ियों के चयन में पैसे के लेन-देन पर लोगों को आश्चर्य तो नहीं हुआ, हां दुख जरूर हुआ। युवा वर्ग में अनुशासन, टीम भावना, जुझारूपन और नेतृत्व के गुण विकसित करने में खेलों की महत्वपूर्ण भूमिका मानी जाती है। लेकिन खेल संघ इन खेलों के जरिए भ्रष्टाचार और दूसर अनैतिक कार्यो का प्रशिक्षण देने में लगे हैं।ड्ढr प्रभात कुमार, सरस्वती गार्डन, नई दिल्ली मजबूरी का सौदा कहावत है कि ‘गरीब तेर तीन नाम, झूठा, पाजी, बेईमान’ यही कारण है कि हम मजबूरी को भी हास्य-व्यंग्य के सांचे में ढाल लेते हैं। ‘हिन्दुस्तान’ मंगलवार, 15 अप्रैल 2008, नक्कारखाना कॉलम में ‘बोर वेल के नियम’ शीर्षक व्यंग्य पर मैं कहना चाहूंगा कि बोर वेल में फंसने का किसी को कोई शौक नहीं है और न ही सरपंच, विधायक, सांसद, डीएम, या चौबीस चांडाल चैनल को मुफ्त में वाहवाही लूटने का। गांव, कस्बों, देहातों में मजबूरी के कारण आदमी रोी-रोटी के जुगाड़ में लगा होता है तो औरत चूल्हे-चौके में। फिर बच्चे तो खुले आसमान के नीचे भगवान के भरोसे ही रहेंगे।ड्ढr राजेन्द्र कुमार सिंह, रोहिणी, दिल्ली नेताओं के प्रति होता मोहभंग हाल के लोकसभा व विधानसभा के उपचुनावों में उत्तर प्रदेश में भाजपा, सपा, कांग्रेस का प्रदर्शन निराशाजनक रहा है। केन्द्र में सत्ता की दावेदारी करने वाली भाजपा का प्रदर्शन तो ज्यादा ही खराब रहा है। उत्तर प्रदेश में भाजपा जबतक पूरी सक्रियता से मेहनत नहीं करती, तबतक उसका यह सपना भी अधूरा है। सत्ता पक्ष को छोड़कर राजनीतिक दलों के नेताओं का जनता के मध्य न जाना व संगठन के लोगों द्वारा तहसील से लेकर जिला स्तर तक जनसमस्याओं को न उठाए जाने की वजह से नेताओं के प्रति जनता का मोह भंग हो रहा है।ड्ढr दिनेश गुप्त, कृष्णगंज, पिलखुवा, उ.प्र जनता के सुझाव : सबकी राय कॉरिडोर को सफल बनाने के लिएड्ढr जनता की एक ही और एक जसी ही राय व सुझाव हैं।ड्ढr 1. बस स्टैंड सड़क के किनार हों और बसों को किनार चलाया जाए।ड्ढr 2. आम आदमी बीच में चलें।ड्ढr 3. सड़क पार करने के लिए जगह-ागह ओवरब्रिज बनें।ड्ढr 4. अगर ऐसा जल्द नहीं होता है, तो वह दिन दूर नहीं, जब सड़कों पर दुर्घटनाओं में बढ़ोतरी होगी।ड्ढr आज भी रो लोग सड़क पार करने में वाहनों से टक्कर खा रहे हैं।ड्ढr श्रीचरन, दक्षिणपुरी, नई दिल्ली नहीं मिला दाखिलाड्ढr दर्जनों अवॉर्ड मिले,ड्ढr नहीं मिला पब्लिक स्कूल में दाखिला।ड्ढr हो गई अवार्ड देने वाले से गलती,ड्ढr नहीं रुकेगा गलतियों का सिलसिला।ड्ढr आंखें बंद कर कहते हैं दिखता नहीं,ड्ढr अब कहां ढूंढ़े इनके लिए उााला।।ड्ढr ीिस्र्ं’्रीि२्र१ी्िरऋऋं्र’.ूं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रशिक्षण हॉकी या अनैतिकता का