DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ज्ञानोदय की मान्यता वापस होगी!

पेपर आउट मामले में शामिल शोघ छात्र निलम्बितड्ढr लखनऊ विश्वविद्यालय पर्चा लीक मामले में ज्ञानोदय डिग्री कॉलेज के खिलाफ कार्रवाई तय है। विवि प्रशासन कॉलेज की मान्यता वापस लेने पर गंभीरता से विचार कर रहा है। इस मामले को बुधवार को होने वाली कार्यपरिषद की बैठक में भी रखा जाएगा। पर्चा आऊट कराने में शामिल ज्ञानोदय कॉलेज के गेस्ट टीचर तथा विवि के शोध छात्र नवनीत मिश्रा को सोमवार को विवि से निलम्बित कर दिया गया। उसके विवि में प्रवेश पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। बी.काम अंतिम वर्ष के छात्र अकबर अली के छात्र होने की पुष्टि न हो पाने से सोमवार को उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं हो पाई।ड्ढr विवि प्रशासन पर्चा आऊट होने के मामले में ज्ञानोदय डिग्री कॉलेज के प्रबंधन को भी दोषी मान रहा है। कुलपति अजायब सिंह बरार ने सोमवार को कहा अगर कॉलेज के प्रधानाचार्य ने पेपर को अपनी अभिरक्षा में रखा होता तो इस तरह की घटना न होती। कॉलेज प्रशासन ने गैर जिम्मेदाराना तरीके से यह काम कुछ कर्मचारियों के जिम्मे छोड़ दिया जिससे उन्हें पेपर आऊट करने का मौका मिल गया। कुलपति ने कहा कि इसमें शामिल किसी भी कर्मचारी व शिक्षक को बख्शा नहीं जाएगा। कॉलेज के खिलाफ भी कठोर से कठोर कार्रवाई होगी। 30 अप्रैल को होने वाली विवि की कार्यपरिषद की बैठक में कॉलेज के खिलाफ कार्रवाई का प्रस्ताव रखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि न्यायाधीश के.सी.भार्गव तथा पुलिस की पूरी जाँच रिपोर्ट अभी तक नहीं आ पाई। रिपोर्ट मिलते ही कार्रवाई कर दी जाएगी। इससे पहले कॉलेज के खिलाफ कार्रवाई की सहमति के लिए प्रकरण को कार्य परिषद में रखा जा रहा है। विवि के आईपीपीआर के निदेशक डॉ.मनोज दीक्षित ने कहा कि नवनीत को निलम्बित कर नोटिस जारी कर दी गई है। उसे तीन दिन में जबाव देने को कहा गया है। उन्होंने बताया कि इसी मामले में शामिल एक अन्य छात्र अकबर अली के बार में जानकारी नहीं हो सकी है। यह बी.काम अंतिम वर्ष का छात्र बताया जा रहा है। सोमवार को विवि के बंद होने की वजह से दस्तावेजों की पड़ताल नहीं हो पाई। छात्र होने की पुष्टि होते ही उसे भी निलम्बित कर दिया जाएगा। ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ज्ञानोदय की मान्यता वापस होगी!