DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उम्मीदवारों का भाग्य मतपेटियों में बंद

बिहार विधान परिषद के शिक्षक और स्नातक निर्वाचन क्षेत्रों में सोमवार को शांतिपूर्ण मतदान के साथ उम्मीदवारों के भाग्य मतपेटियों में बंद हो गए। निर्वाचन विभाग के अनुसार शिक्षक निर्वाचन क्षेत्रों में औसतन 72.81 प्रतिशत तथा स्नातक निर्वाचन क्षेत्रों में 57.28 प्रतिशत वोट पड़े। कहीं से भी किसी गड़बड़ी या अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। कुछ शिकायतें जांच के बाद गलत पायी गयीं। मतगणना 30 अप्रैल को होगी। स्नातक निर्वाचन क्षेत्र पटना, दरभंगा, कोसी और तिरहुत तथा शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र पटना, दरभंगा, सारण और तिरहुत में सोमवार को विधान परिषद के द्विवार्षिक चुनाव में कुल आठ सीटों के लिए 82 उम्मीदवार मैदान में थे।ड्ढr ड्ढr 23 दलीय और 5निर्दलीय उम्मीदवार हैं। राज्यभर में 786 बूथ बनाए गए थे। सभी बूथों पर सशस्त्र सुरक्षा बलों की तैनाती की गयी थी। शिक्षक निर्वाचन क्षेत्रों में सबसे अधिक 80 प्रतिशत वोट सारण में जबकि स्नातक निर्वाचन क्षेत्रों में सबसे अधिक 68 प्रतिशत वोट दरभंगा में पड़े। कुल मतदाताओं की संख्या 2,37,41थी जिसमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 2,0203 तथा महिला मतदाताओं की संख्या 34,516 है। वोट सुबह आठ से शाम चार बजे तक डाले गए। जिन खास दलीय उम्मीदवारों के भाग्य मतपेटियों में बंद हुए उनमें पटना स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से आजाद गांधी, नीरा कुमार, रमेश प्रसाद सिंह और पीके सिन्हा हैं। पटना शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से अभयानंद सिन्हा, जनार्दन प्रसाद सिंह और प्रो. नवल किशोर यादव, दरभंगा स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से दिलीप चौधरी और विनोद कुमार चौधरी हैं। दरभंगा शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से वासुदेव सिंह और हरिनारायण सिंह हैं। कोसी स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से दीनाकांत झा, वीरकेश्वर प्रसाद सिंह और सुनील कुमार सिंह हैं। तिरहुत स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से देवेश चंद्र ठाकुर, राम कुमार सिंह और वीणा देवी हैं। तिरहुत शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से ओमेश प्रसाद सिंह, नरन्द्र प्रसाद सिंह, सुनील कुमार राय और संजय कुमार सिंह हैं। सारण शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से केदार पांडेय, चंद्रमा सिंह और रत्नेश्वरी शर्मा हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उम्मीदवारों का भाग्य मतपेटियों में बंद