अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संथाल में 29 थाने उग्रवाद प्रभावित

झारखंड के पुलिस महानिदेशक बी.डी.राम ने सोमवार को दुमका में पुलिस के आला अधिकारियों के साथ ब्ैाठक कर संथाल परगना में नक्सलियों के बढ़ते प्रभाव को रोकने की रणनीति तैयार की। ब्ैाठक में आईाी आपरेशन बी.के.पांडेय, आईाी दुमका एच.के.मिश्रा और डीआईाी मदन मोहन ओझा के साथ ही दुमका, देवघर, गोड्डा, जामताड़ा, पाकुड़ और साहिबगंज के एसपी मौजूद थे। ब्ैाठक के बाद पत्रकारों के साथ बातचीत में डीाीपी श्री राम ने बताया कि संथाल परगना में नक्सली संगठन प्रारंभिक स्टेा से आगे पहुंच चुका है। उन्होंने बताया कि नक्सलियों से निपटने की रणनीति तैयार की गयी है, जिसका वे खुलासा नहीं करेंगे। संथाल परगना में उग्रवाद प्रभावित 2थानों को चिह्न्ति किया गया है जिसे अत्याधुनिक सुविधाओं और संसाधनों से ल्ैास किया जायेगा। शिकारीपाड़ा के पोखरिया में 26 अप्रैल को नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में थाना प्रभारी सहित पुलिस के तीन जवानों के शहीद होने की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए पुलिस महानिदेशक ने कहा कि नक्सली दस्ता के सभी सदस्यों को शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जायेगा। इस घटना में नक्सली दस्ता का सरगना सेबास्टीन पुलिस की गोली से ढेर हो गया था। एरिया कमांडर मनोज देहरी को गिफ्तार कर जेल भेज दिया गया। जोनल कमांडर बदरी राय पहले ही गिरफ्तार हो चुका है। डीाीपी श्री राय ने बताया कि नक्सली दस्ता के शेष बचे सदस्यों की पहचान हो गयी है। डीाीपी ने कहा कि संथाल परगना शांत क्षेत्र रहा है इसे अशांत नहीं होने दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि नक्सली 4-5 साल पहले से इस इलाके में सव्रे के काम में जुटे हुये थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: संथाल में 29 थाने उग्रवाद प्रभावित