अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हमने बिछायीं पलकें, आपने पूछा तक नहीं

झारखंड और बिहार में फर्क अब साफ दिखने लगा है। झारखंड के अधिकारी प्रोटोकॉल निभाना जानते हैं, लेकिन बिहार के अफसर दूसर राज्य के सीएम तक की परवाह नहीं करते। झारखंड में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार निजी कार्यक्रम में शिरकत करने आये, तो उन्हें पूरा सम्मान मिला। वहीं, झारखंड के सीएम मधु कोड़ा पटना गये, तो उन्हें किसी ने पूछा तक नहीं। बिहार के इस रवैये से झारखंड के अधिकारी खासा नाराज हैं। वाकया 27 अप्रैल का है। यह महज संयोग है कि उस दिन बिहार के मुख्यमंत्री रांची में थे और झारखंड के मुख्यमंत्री पटना में। पर, दोनों के सम्मान में अंतर हुआ। कोड़ा शाम साढ़े पांच बजे पटना पहुंचे। एयरपोर्ट पर कोई अधिकारी रिसीव करने नहीं आया, कोई व्यवस्था भी नहीं थी। इतना ही नहीं हेलीकॉप्टर के पॉयलट के ठहरने तक की व्यवस्था नहीं की गयी। गार्ड ऑफ ऑनर भी नहीं मिला। शायद वहां के अधिकारियों को लगा कि सीएम जहां ठहरंगे, वहीं गार्ड ऑफ ऑनर दिया जायेगा, लेकिन वह भी नहीं हुआ। 28 अप्रैल को मधु कोड़ा पटना एयरपोर्ट पहुंचे, तब भी कोई व्यवस्था नहीं थी और वे रांची लौट आये। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रविवार को 3.35 मिनट पर रांची एयरपोर्ट पहुंचे थे। उनके आने के पहले एयरपोर्ट की पूरी जांच हुई। सिटी एसपी रिचर्ड लकड़ा, विशेष शाखा के डीएसपी मनोज कुमार और एडीएम लॉ एंड ऑर्डर के रवि प्रकाश समेत कई अधिकारी वहां मौजूद थे, गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। नीतीश जब छह बजे वापस एयरपोर्ट पहुंचे, तो उन्हें फिर गार्ड ऑफ ऑनर मिला। झारखंड की सरकार ने पड़ोसी राज्य के मुख्यमंत्री के लिए यह व्यवस्था की थी, वहीं पड़ोसी राज्य ने यहां के मुख्यमंत्री के लिए कोई व्यवस्था नहीं की । उधर, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि हम लोग मेहमानों को सबसे अधिक सम्मान देते हैं, ये सब छोटी बातें हैं, इ्नन्हें तूल नहीं दिया जाना चाहिए.।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हमने बिछायीं पलकें, आपने पूछा तक नहीं