DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दूधनाथ सिंह की पत्नी कवयित्री निर्मला ठाकुर का निधन

हिन्दी के प्रख्यात साहित्यकारों के घर से ताल्लुक रखने वालीं 72 वर्षीय कवयित्री निर्मला ठाकुर का गुरुवार को निधन हो गया। भोर में 3.40 बजे उन्होंने झूंसी स्थित अपने आवास पर अंतिम सांसें लीं। उस वक्त उनके पास पति दूधनाथ सिंह मौजूद थे।  

हिन्दी के नामचीन आलोचक मलयज की बहन और कवि श्रीराम वर्मा की भांजी निर्मला ठाकुर के निधन की सूचना मिलते ही साहित्य जगत में शोक की लहर दौड़ गई। जो जहां था, झूंसी की ओर रवाना हो गया। गुरुवार को सुबह से शाम तक साहित्यकारों, राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों, आकाशवाणी-दूरदर्शन के पदाधिकारियों और सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों, विश्वविद्यालय के शिक्षकों, छात्रों और शुभचिंतकों का तांता लगा रहा। देर शाम दारागंज घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। मुखाग्नि दूधनाथ सिंह ने दी। दिल्ली से दोनों बेटे अनिमेष ठाकुर और अंशुमान सिंह, लखनऊ से बेटी अनुपमा ठाकुर और दामाद अजय सिंह भी पहुंच गए थे। घर से घाट तक पहुंचने वाले प्रमुख लोगों में कथाकार काशीनाथ सिंह, हिन्दी साहित्य सम्मेलन के प्रधानमंत्री विभूति मिश्र, आकाशवाणी के निदेशक मंजुल वर्मा, दूरदर्शन के सहायक इंजीनियर केके वाष्ण्रेय, प्रो. अनीता गोपेश, डॉ. प्रणय कृष्ण, अनिल रंजन भौमिक, यश मालवीय, अनिल कुमार सिंह, प्रो. संतोष भदौरिया, डॉ. सूर्य नारायण, सुधीर सिंह, महेन्द्र राजा जैन, उर्मिला जैन, डॉ. अनुपम आनंद, हरीशचंद्र पांडेय, राम प्यारे राय, संतोष चतुर्वेदी, हीरालाल, नीलम शंकर, असरार गांधी, मोहम्मद अनस, संध्या नवोदिता, रतीनाथ योगेश्वर, श्रीरंग, श्लेष गौतम आदि शामिल रहे।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय से परास्नातक निर्मला ठाकुर ने 1960 से कविता लिखनी शुरू की। उस दौर की प्रमुख पत्रिकाओं नई कविता, धर्मयुग, लहर, कल्पना, युगवाणी, झंकार और कृति आदि में उनकी कविताएं लगातार प्रकाशित हुई। 2005 में उनका काव्य संग्रह ‘कई रूप-कई रंग’ और 2014 में हंसती हुई लड़की राधाकृष्ण प्रकाशन से प्रकाशित हुआ। दो प्रमुख कविता संग्रह था। आकाशवाणी इलाहाबाद से सहायक केन्द्र निदेशक पद से वह 2002 में रिटायर हुई। अंतिम दिनों में वह आर्थराइटिस की मरीज हो गई थी। तमाम इलाज के बाद भी सुधार नहीं हुआ, बल्कि समय के साथ दूसरे अन्य रोगों ने उन्हें दबोच लिया। निर्मला ठाकुर की जिंदादिली, मेहमाननवाजी और सहयोगी रवैये ने उन्हें साहित्य जगत में मशहूर कर दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दूधनाथ सिंह की पत्नी कवयित्री निर्मला ठाकुर का निधन