DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इनमें चोरी व महिला अपराध के मामलों की संख्या है ज्यादा

राजधानी में हर महीने उत्तर-पूर्व के 23 लोग किसी न किसी वारदात के शिकार होते हैं। इनमें सबसे ज्यादा चोरी व महिला अपराध के मामले सामने आए हैं। उत्तर-पूर्व सेल द्वारा तैयार किए  आंकड़ों में यह  बात सामने आई है। हालांकि आईपीसी के तहत दर्ज कुल मामलों व जनसंख्या के अनुपात के हिसाब से पुलिस की उत्तर-पूर्व सेल ने इसे महज 0.18 फीसदी ही बताया है। लेकिन चौंकाने वाली बात यह है कि जनसंख्या के हिसाब से बेशक वारदातों के दर्ज होने का प्रतिशत कम रहा है, लेकिन उसके सुलझने का प्रतिशत तो आधे से भी कम है।
आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा वारदातें चोरी की दर्ज की गईं। इसकी संख्या 43 की रही, जबकि उसके सुलझने का प्रतिशत महज 0.07 फीसदी रहा। सिर्फ चार मामलों को ही पुलिस सुलझा पाई। वहीं महिला अपराध के मामलों को देखें तो इस साल उत्तर-पूर्व की 35 महिलाएं व युवतियों के साथ छेड़छाड़ की घटनाएं दर्ज की गईं। हालांकि इसमें से 23 मामलों को सुलझा लिया गया। सबसे ज्यादा घटनाएं दक्षिणी दिल्ली के विभिन्न इलाकों में दर्ज की गईं। इसका कारण यह माना जाता है कि इन इलाकों में उत्तर पूर्व के लोगों की तादात दिल्ली के अन्य इलाकों से ज्यादा है।
महिला के अपराध के तहत ही दुष्कर्म की घटनाओं की संख्या भी दिल्ली में दर्ज कुल मामलों का एक प्रतिशत बैठती है। उपलब्ध आंकड़ों के लिहाज से उत्तर-पूर्व की महिलाओं व युवतियों के साथ विभिन्न श्रेणी के तहत होने वाले अपराधों की संख्या में दूसरे नंबर पर है। हालांकि इन घटनाओं को सुलझाने का प्रतिशत काफी उम्दा रहा। दर्ज कुल मामलों में से 90 फीसदी तक मामले सुलझा लिए गए। इसके ठीक उलट उत्तर पूर्व की महिलाओं को सरेआम अश्लील इशारे करने की घटनाओं को लेकर दर्ज हुए मामलों को सुलझाने का प्रतिशत भी 50 से कम का रहा।

दिल्ली में दर्ज कुल मामले - इसमें उत्तर पूर्व के खिलाफ हुए मामले- सुलझने का प्रतिशत
हत्या-              500   -                     4                    -   3
हत्या का प्रयास-   653   -                     2                    -   2
दुष्कर्म -          1789  -                    18                    - 17
लूटपाट -          5284 -                     13                   -   4
झपटमारी-          5915 -                    23                   -  7
छेड़छाड़-          3674 -                    35                   - 23
अश्लील इशारे-   1092 -                     12                   -  5
अपहरण-          6058 -                     12                   -  3
मारपीट-            1764 -                     2                     - 2
सेंधमारी-           8203 -                     12                   - 3  
चोरी-              62,976-                     43                   - 4
ठगी-               3986 -                       6                    - 2
अन्य मामले-      23,926-                     44                   - 30
कुल आईपीसी-  1,25,810-                   226                  -105        
31 अक्तूबर-2014 तक के उत्तर-पूर्व सेल के आंकड़ों के मुताबिक

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इनमें चोरी व महिला अपराध के मामलों की संख्या है ज्यादा