DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वोट की राजनीति में उलझ कर रह गया ‘विकास’

केंद्र और राज्य सरकारों में हितों का टकराव अच्छे कामों को रोक रहा है। देश में वोट की राजनीति और लाभ-हानि के गणित में विकास कार्य उलझ कर रह जा रहे हैं। यह बातें फिल्म अभिनेता, भोजपुरी गायक और सांसद मनोज तिवारी ने गुरुवार को होटल रामाडा में विशेष बातचीत में कहीं।
चुनाव प्रचार में गुरुवार को लौहनगरी पहुंचे मनोज तिवारी ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत पहले भाजपा के लिए है। सड़कों की सफाई के साथ मन की सफाई भी जरूरी है। मंच तक जाने के क्रम में कई बार ग्रामीणों की स्पष्ट प्रतिक्रिया मिली कि भाजपा में भी कुछ लोगों को ठीक करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक चरित्र के परिवर्तन को जनता मान्यता देने लगी है। लोग मतदान को लेकर काफी सजग और जागरूक भी हैं।

ग्रामीणों में है चेतना
झारखंड विधानसभा चुनाव में सात चुनावी सभा करने वाले मनोज तिवारी ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों की जनता में मतदान को लेकर चेतना देखकर सुखद अहसास हुआ। सभा के दौरान लोगों की प्रतिक्रिया भी चौंकाने वाली रही। पांकी में एक बुजुर्ग ने बेबाक कहा-‘पीएम को कहकर कीमत बढ़ाने वालों को दंडित करे’। जब पेट्रोल और डीजल के मूल्य कम हो गए तो उससे जुड़ी चीजें क्यों महंगी हो रही हैं। मैं हैरान रह गया कि किस को डंडा मांरू, समझ नहीं आया।

आज रिलीज होगी ‘औरत खिलौना नहीं’
मनोज तिवारी ने कहा कि सांसद बनने के बाद पांच महीने में जनसेवा के साथ मूल काम भी जारी रखा। भोजपुरी फिल्म ‘औरत खिलौना नहीं’ बनाई, जो 21 नवंबर को बिहार, उत्तर प्रदेश और पंजाब में एक साथ रिलीज होगी। दो सप्ताह बाद झारखंड में प्रदर्शित होगी। लेखक व निर्देशक असलम शेख की फिल्म में पुलिस इंस्पेक्टर की भूमिका निभाने वाले मनोज तिवारी ने कहा कि फिल्म में औरत को खिलौने समझने वालों को सजा दी गई है। रिंकू घोष, शैलेश सिन्हा, अवधेश मिश्र, अफरोज मुख्य भूमिका में हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वोट की राजनीति में उलझ कर रह गया ‘विकास’