DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओल्ड सिटी को मिलेगी मॉडर्न लाइब्रेरी की सुविधा

ओल्ड सिटी के लोगों को जल्द ही एक और मॉडर्न लाइब्रेरी की सुविधा मिल जाएगी। नगर निगम 53.17 लाख रुपये की लागत से भीम नगर में लाइब्रेरी के लिए भवन का निर्माण कराने जा रहा है। दो मंजिला इस लाइब्रेरी में खाने-पीने की भी सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

साइबर सिटी में फिलहाल एक ही जिला लाइब्रेरी सिविल लाइंस एरिया में है। ऐसे में यहां पर सभी लोगों को पहुंचने में असुविधा होती है। साथ ही लाइब्रेरी की हालत भी सही नहीं हैं। इसी को ध्यान में रखकर नगर निगम रेलवे रोड स्थित भीम नगर में एक मॉडर्न लाइब्रेरी बनाने की योजना तैयार की है। भीम नगर में लाइब्रेरी बनने से द्रोणाचार्य पीजी कालेज समेत सीनियर सेकें डरी स्कूलों के छात्रों के अलावा स्थानिय लोगों को मन पंसद किताबें घर के पास पढ़ने को मिलेगी। नगर निगम के एसडीओ सोनू कुमार ने बताया कि दो मंजिला लाइब्रेरी के लिए भवन निर्माण की ड्राइंग तैयार कर लिया गया है। 129 स्क्वॉयर मीटर में बनने वाली इस भवन में किचन रुम का भी प्रावधान किया गया है। दिसंबर में इसे शुरू किया जा सकेगा। इससे लोगों मन पसंद किताबों और अखबार पढ़ते वक्त चाय की चुस्की भी ले सकेंगे। उन्होंने कहा कि लाइब्रेरी के निर्माण से संबंधित औपचारिकताए पूरी कर इस माह पूराकर टेंडर जारी कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि डिजाइनिंग लाइब्रेरी के हिसाब से कराई गई है। पूर्व पार्षद दिलीप साहनी ने बताया कि इससे पुराने शहर के लोगों को लाभ मिलेगा। यह निगम की पहली लाइब्रेरी होगी। वार्ड 13 की पार्षद रजनी साहनी ने कहा कि लाइब्रेरी की कमी काफी समय से महसूस की जा रही थी। उम्मीद है कि लोगों को जल्द ही इसका लाभ मिल सकेगा।

डिजीटल कंट्रेंट भी होगा-
योजना के अनुसार निगम लाइब्रेंरी के सम-सामयिक किताबों के साथ युवा वर्ग को ध्यान में रखकर किताबों की व्यवस्था की जाएगी। योजना के अनुसार सेकेंड फ्लोट बीच में पाठकों के पढ़ने के लिए एसी कमरे का  इंतजाम किया जाएगा। इसी प्रकार यहां पर कुछ किताबों की डिजीटल कंट्रेंट उपलब्ध कराने की योजना है। इसके लिए एक कम्प्यूटर रुम बनाया जाएगा। जहां पर कोई भी ई लाइब्रेरी की सुविधा उठा सकेंगे। पार्षद रजनी ने कहा कि निगम की पहली लाइब्रेरी होगी। इसलिए इसे खास तौर पर कई इंतजाम किए जाएगे।

अभी क्या है-
शहर में एक राजकीय लाइब्रेरी सिविल लाइंस में शमा रेस्ट्रोंरेंट के पास है। जबकि,निजी संस्थाओं की लाइब्रेरी पांच-छह है। लेकिन,निजी लाइब्रेरी में अखबार के अलावा अन्य किताबों का अभाव रहता है। ऐसे में निगम की लाइब्रेरी बनाने से दोनों को एक और ऑप्सन मिल जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ओल्ड सिटी को मिलेगी मॉडर्न लाइब्रेरी की सुविधा