DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्राओं को लाइब्रेरी में सदस्यता देने का मुद्दा फिर गरमाया

एएमयू की मौलाना आजाद लाइब्रेरी में विमेंस कॉलेज की छात्राओं को सदस्यता देने के मामले वीसी जमीरउद्दीन शाह का विवादों से पीछा नहीं छूट पा रहा। कुछ दिन पहले वीसी कह रहे थे कि लाइब्रेरी में जगह की समस्या के कारण विमेंस कॉलेज छात्राओं को सदस्यता दे पाना मुमकिन नहीं है। बुधवार को वीसी ने प्रशासनिक ब्लॉक में छात्र व कर्मचारियों की भीड़ में एक टीवी को इंटरव्यू देते वक्त कहा कि परिजन छात्राओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी उठा लें तो वह उन्हें लाइब्रेरी जाने की अनुमति दे देंगे। वहीं इसी मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक याचिका पर सुनवाई चल रही है। उसमें कोर्ट ने एएमयू प्रशासन से स्पष्टीकरण मांगा हुआ है।

वीसी जमीरउद्दीन शाह ने कहा इंटरव्यू में कहा कि एएमयू में किसी तरह का भेदभाव नहीं होता। कोचिंग के लिए छात्राओं को बाहर जाने की अनुमति के लिए पिछले साल वीसी ने परिजनों को जो पत्र लिखा था। उसका हवाला देते हुए वीसी ने कहा कि परिजन नहीं चाहते कि उनकी बेटियां बाहर जाएं। चार हजार परिजनों को पत्र लिखा था, जिसमें एक परिजन ही बेटी को बाहर भेजने को तैयार थे। वीसी ने इंटरव्यू में कहा कि परिजन छात्रओं की सुरक्षा जिम्मेदारी उठाने को तैयारी हो जाएं तो वह इजाजत दे देंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: छात्राओं को लाइब्रेरी में सदस्यता देने का मुद्दा फिर गरमाया