DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जदयू-राजद का नहीं होगा विलयः नीतीश

जदयू-राजद का नहीं होगा विलयः नीतीश

पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि जदयू-राजद का विलय नहीं होगा। पिछले दिनों पुराने जनता दल परिवार के साथ हुई बैठक में एक मंच पर आने की बात हुई थी। वे मंगलवार को समस्तीपुर के पटेल मैदान में संपर्क यात्रा सह जिलास्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन के बाद पत्रकारों के सवाल का जवाब दे रहे थे।

पूर्व सीएम ने कहा कि दो दलों के विलय का कोई सवाल ही नहीं उठता है। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों पुराने जनता दल परिवार की दिल्ली में हुई बैठक में एक मंच पर आने की बात हुई थी। सभी समाजवादी विचारधारा की पार्टी एक साथ सामने आए तो स्वागत है। इन दलों के साथ आगामी बैठकों में भी लोकसभा व राज्यसभा में मुद्दों के तहत काम किया जाएगा।

इसके पूर्व कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पूर्व सीएम ने नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए वादाखिलाफी का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मोदी ने सौ दिन में कालाधन वापसी, युवाओं को नौकरी देने के साथ बिहार को विशेष दर्जा व विशेष सहायता देने का वायदा किया था। लेकिन 175 दिन में कालाधन पर क्या हुआ आप सभी जानते हैं। एक साल तक नौकरी पर रोक लगा दी गई। बिहार को विशेष दर्जा देने के उलट यहां का इंदिरा आवास, मनरेगा, प्रधानमंत्री सड़क योजना आदि मद का पैसा रोक लिया गया है। उपर से बिहार के भाजपा नेता अब कहते फिर रहे हैं कि विशेष दर्जा से क्या होगा।

पूर्व सीएम ने कहा कि मोदी ने किसानों से वायदा किया था कि अनाज के लागत मूल्य में पचास फीसदी लाभ के साथ समर्थन मूल्य तय किया जाएगा। लेकिन साढ़े तीन प्रतिशत ही किसानों को लाभ दिया गया। राज्य सरकार द्वारा दिए जाने वाले बोनस पर भी रोक लगा दी गई।

सरकार व संगठन के बीच बनी दूरी
पूर्व सीएम ने कहा कि लोकसभा चुनाव के बाद प्रदेश भर के जिलेवार प्रमुख कार्यकर्ताओं के साथ संवाद में यह बात सामने आयी कि सरकार व संगठन के बीच दूरी बनी है। इससे कार्यकर्ताओं में मायूसी छायी। उन्होंने हार का एक कारण इसे भी माना। आत्ममंथन के बाद मैंने सीएम पद से इस्तीफा दिया और कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद का निर्णय किया। कार्यकर्ताओं को उत्साहित करते हुए उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में बोली चलती है, गोली नहीं। आपलोग सूबे की सरकार के कार्यो को जनता के बीच ले जाएं। साथ ही कनफुंकवा लोगों के प्रति सक्रिय, सतर्क व सचेत रहने की अपील भी की।

कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष अशोक कुमार ने की। सम्मेलन को प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नरायाण सिंह, प्रभारी मंत्री रंजू गीता, मंत्री विजय कुमार चौधरी, वैद्यनाथ सहनी, राज्यसभा सदस्य रामनाथ ठाकुर, गुलाम रसूल बलियावी, विधायक, पूर्व मंत्री आदि ने भी संबोधित किया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जदयू-राजद का नहीं होगा विलयः नीतीश