DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिलों ने राज्य सरकार को भेजा त्राहिमाम संदेश, 70 हजार काम बंद

राज्य में मनरेगा का पैसा खत्म हो गया है। जिलों से राज्य मुख्यालय को त्राहिमाम संदेश भेजा गया है। इस वजह से लगभग 70 हजार कार्य बंद हो गए है। 49 लाख जॉबकार्डधारी मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का संकट पैदा गया है।

राज्य सरकार ने केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय से 400 करोड़ रुपए तुरंत मुहैया कराने का आग्रह किया है। केंद्र सरकार अब संभवत: चुनाव आचार संहिता खत्म होने के बाद ही झारखंड को राशि मुहैया कराएगी। केंद्र सरकार ने अप्रैल से अगस्त तक तीन किस्तों में 432 करोड़ उपलब्ध कराए हैं। लगभग 36 करोड़ रुपए राज्य सरकार ने अपना हिस्सा मिला कर जिलों को  467 करोड़ रुपए भेजा था।

राज्य के ग्रामीण विकास मंत्री केएन त्रिपाठी के दबाव में जिलों में उपलब्ध राशि से अधिक का काम करा लिया गया। लगभग 532 करोड़ रुपए का अधिक काम करा लिया गया है। अधिक काम इसलिए कराया गया कि झारखंड में राशि खर्च ही नहीं होती। इस वजह से केंद्र सरकार वर्ष दर वर्ष लेबर बजट कम करती गई। मनरेगा का बजट 2500 करोड़ से घट कर अब मात्र 900 करोड़ रह गया है। लोगों ने यह को यह अनुमान नहीं था कि मनरेगा में इतना काम हो जाएगा और पैसा कम पड़ जाएगा। जिलों में मजदूर मजदूरी मांग रहे हैं।

यह सही है कि मनरेगा की राशि खत्म हो गई है। केंद्र सरकार के पास मनरेगा की शेष राशि भेजने के लिए आग्रह पत्र भेज दिया गया है।
राहुल पुरवार, मनरेगा आयुक्त

केंद्र सरकार के सौतेले व्यवहार के कारण झारखंड में मनरेगा की दुर्गति हो रही है। समय पर पैसा नहीं मिलने से मजदूर नाराज हैं।
जेम्स हेरेंज, मनरेगा वॉच

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जिलों ने राज्य सरकार को भेजा त्राहिमाम संदेश, 70 हजार काम बंद