DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वर्धमान ब्लास्टः हुसैन की तलाश में एनआइए का बरहड़वा में छापा, दस्तावेज जब्त

वर्धमान ब्लास्टः हुसैन की तलाश में एनआइए का बरहड़वा में छापा, दस्तावेज जब्त

वर्धमान ब्लास्ट कांड के सिलसिले में रविवार को एनआइए व आइबी की टीम ने बरहड़वा थाना क्षेत्र के सातगाछी में मनसूर रहमान के घर छापेमारी की। टीम के सदस्यों को मनसूर रहमान के पुत्र मो. हुसैन की तलाश थी। हालांकि छापेमारी के दौरान मो. हुसैन घर पर नहीं मिला। टीम ने उसके माता-पिता से पूछताछ के बाद घर की तलाशी ली।

टीम के सदस्य ने मो. हुसैन के कमरे व विस्तर, बक्शा एवं बैग की तलाशी ली। मो. हुसैन की मां महमूदा बीवी ने बताया कि हुसैन की तलाश में आई टीम में शामिल लोग तलाशी में उसके पुत्र के फाइल से कुछ कागजात लेकर चले गए। कौन से कागजात ले गए हैं, उन्हें पता नहीं है। मो. हुसैन व मो. महमूदा बीवी ने बताया उनके बेटे ने आमतल्ला मदरसा से मौलवी की पढ़ाई पूरी की है। इसके बाद वह घर में ही रहता था।

उन्होंने बताया कि बीते आठ नवम्बर को वह कोलकाता गया था। वहां से चार दिन के बाद उसका पुत्र घर लौटा तो बताया कि एनआइए ने कोलकाता स्थित अपने कार्यालय में उसे बुलाया था। वहां एनआइए अधिकारी ने एक मोबाइल सिम के बारे में पूछताछ की। फिर घर भेज दिया। दोबारा टीम उसके पुत्र की तलाश में यहां पहुंची थी। परिजनों का कहना था कि उन्हें पता नहीं कि बार-बार एनआइए की टीम यहां क्यों आ रही है। हुसैन के बारे में एनआइए टीम इतनी पूछताछ क्यों कर रही है। हुसैन के माता-पिता ने बताया कि रविवार से उसका पुत्र कहां गया है पता नहीं है।

जहांगीर पर थी संताल में जमात उल मुहाजाहीन को मजबूत करने की जिम्मेवारी
लखनऊ से पाकुड़ पहुंची एनआइए की टीम ने सोमवार को पुलिस लाइन पहुंचकर हिरासत में रखे गए बंग्लादेश के आंतकी संगठन जमात-उल-मुजाहिद्दीन के पाकुड़ और साहिबगंज के कमांडर जहांगीर शेख से लंबी पूछताछ की। एनआईए और आईबी की टीम ने बुधवार को जहांगीर और सलाउद्दीन को हिरासत में लिया था। जहांगीर ने पूछताछ के दौरान अबतक 15 लोगों के नाम उगले हैं। इन सभी की तलाश के लिए एनआइए लगातार छापेमारी कर रही है, लेकिन फिलहाल कोई सफलता नहीं मिली है।

आतंकी संगठन से जुड़े लोगों के पश्चिम बंगाल में जाकर पनाह लेने की खबर है। जहांगीर के घर से एनआइए की टीम को हाथ लगे दो बंग्लादेशी मोबाइल नम्बरों का लगातार लोकेशन लेने का प्रयास टीम द्वारा किया जा रहा है, जिस पर बंग्लादेश से सैंकड़ों कॉल आने के डिटेल्स मिले हैं। हिरासत में लिए गए सलाउद्दीन शेख ने भी 25 दिनों में लगभग 17 बार जहांगीर से संपर्क किया था, जहांगीर वर्धमान बम ब्लास्ट के मास्टर माइंड साजिद के साथ वीरभूम में कई बार बैठकों में शामिल रहा है।

जहांगीर ने वीरभूम के बिटिलचौकी में संचालित मदरसा में ही पहली ट्रेनिंग लेने की बात स्वीकारी है, साथ ही उसने यह भी स्वीकारा है कि साहिबगंज और पाकुड़ जिले में आंतकी संगठन जमात उल मुहाजाहीन को मजबूत करने की जिम्मेवारी उसने ली है। जहांगीर ने जांच टीम के समक्ष इस बात का भी खुलासा किया है कि आतंकी संगठन के साथ उसका पूरा परिवार जुड़ा है। इस मामले में साहिबगंज जिले के एक रसूखदार नेता के करीबी का नाम भी सामने आने लगा है।

इधर एनआइए और आईबी के बड़े अधिकारी ने पाकुड़ पहुंच कर सोमवार को पाकुड़ पुलिस के बड़े अधिकारी के साथ बैठक कर इस इलाके में संदिग्धों के विरूद्ध छापेमारी अभियान चलाने की योजना तय की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वर्धमान ब्लास्टः हुसैन की तलाश में एनआईए का छापा