DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्थिक मंदी से बचना है तो भारत से करो डील

आर्थिक मंदी से बचना है तो भारत से करो डील

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने सोमवार को दुनिया में एक बार फिर आर्थिक मंदी आने की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा है कि अगर इससे बचना है, तो ब्रिटेन सहित विभिन्न देशों को भारत और चीन के साथ अधिक से अधिक आर्थिक समझौते करने होंगे।

जी-20 शिखर सम्मेलन की समाप्ति के बाद कैमरन ने कहा विश्व अर्थव्यवस्था में अस्थिरता और अनिश्चितता वर्ष 2008 की मंदी से उबरने की कोशिश कर रहे ब्रिटेन की राह में सबसे बड़ी बाधा है। यूरोजोन की अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती का असर पहले ही ब्रिटेन के विनिर्माण क्षेत्र पर दिखाई दे रहा है। कैमरन ने अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) प्रमुख क्रिस्टिन लेगार्डे के बयान का भी उल्लेख किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि भारी कर्ज, कम विकास और बेरोजगारी आने वाले दिनों में यूरोप के लिए सामान्य बात होगी।
 
कैमरन ने कहा कि यूरोजोन एक और मंदी के चक्रव्यूह में फंस सकता है। आर्थिक विकास के लिए इंजन नजर आ रही उभरते बाजार वाली अर्थव्यवस्थाएं भी सुस्त नजर आ रही है। विश्व व्यापार संगठन में पिछले साल बाली में हुए समझौते पर कोई प्रगति नहीं हुई है। इबोला से पश्चिमी अफ्रीका त्रस्त है, पश्चिम एशिया में संघर्ष जारी है और यूक्रेन में रूस की गैरकानूनी कार्रवाई अनिश्चितता और अस्थिरता के खतरे को बढ़ रहे हैं।

ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने कहा कि इस स्थिति से निपटने का एकमात्र तरीका भारत और चीन जैसी अर्थव्यवस्थाओं के साथ अधिक से अधिक समझौते हैं। गौरतलब है कि जापान ने सोमवार को स्वीकार किया कि उसकी अर्थव्यवस्था मंदी की शिकार हो गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आर्थिक मंदी से बचना है तो भारत से करो डील