DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बनारस में खुलेगा पूर्वांचल का पहला किसान बाजार

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस में पूर्वांचल का पहला किसान बाजार खुलने जा रहा है। इसकी पहल केन्द्रीय लघु कृषि व्यापार संघ ने की है। पहले चरण में जिले के चार विकासखंडों से जुड़े सब्जी उत्पादकों (किसान)को जोड़ने का काम शुरू कर दिया गया है। इसका फायदा यह होगा कि सब्जी उत्पादक सीधे संघ से जुड़कर किसान बाजार में सीधे सब्जी बेच सकेंगे। इससे न केवल बिचौलिए की भूमिका खत्म होगी बल्कि किसानों को प्रत्यक्ष लाभ मिलेगा।

खास बात यह है कि किसान बाजार से जुड़ने के लिए मोदी के आदर्श गांव जयापुर को भी इस मुहिम से जोड़ा गया है। किसानों की एक समिति भी बना दी गई है। अधिकारियों का कहना है कि किसान बाजार से पूर्वांचल के किसानों को जोड़ने का प्रयास होगा। बाजार की उपलब्धता को देखते हुए एक साल के अंदर फूड प्रोसेसिंग इकाई की स्थापना भी की जाएगी।

गुजरात-महाराष्ट्र की तर्ज पर किसान बाजार
सोमवार को वाराणसी दौरे पर पहुंचे केन्द्रीय लघु कृषि व्यापार संघ के सचिव प्रवेश शर्मा ने कमिश्नर आरएम श्रीवास्तव, वीडीए एवं कृषि अधिकारियों के साथ बैठक की। श्री शर्मा ने बताया कि गुजरात, महाराष्ट्र, पंजाब, उत्तरांचल आदि की तर्ज पर बनारस के सब्जी उत्पादकों को बाजार मुहैया कराने का केन्द्र सरकार ने निर्णय लिया है। इसी कड़ी में बनारस में एक किसान बाजार की स्थापना की जानी है।

योजना के तहत पहले चरण में सब्जी उत्पादकों को इससे जोड़ा जाएगा। जिससे कि किसान सीधे अपनी उपज बाजार में बेच सकें। कहा कि दूसरे राज्यों में इसका लाभ किसान उठा रहे हैं। उन्होंने कमिश्नर से अस्थायी तौर पर काम शुरू करने के लिए कोई जमीन दिलाने की बात कही। साथ ही यह जानकारी भी ली कि बनारस में कहां-कहां पर सब्जी बाजार लगता है? कमिश्नर ने पहड़िया मंडी व भारतीय सब्जी अनुसंधान केन्द्र की जमीन के बारे में जानकारी दी।

बाजार के लिए दो एकड़ जमीन की तलाश
श्री शर्मा ने वीडीए सचिव एमपी सिंह एवं जिला कृषि अधिकारी संजय सिंह के साथ पहडिम्या मंडी व गांधीनगर (सुंदरपुर) में जमीन की संभावनाएं तलाशी। श्री शर्मा ने पहड़िया मंडी में अस्थायी तौर पर काम शुरू करने के लिए एक प्लेटफार्म उपलब्ध कराने के लिए कमिश्नर से वार्ता की। फिलहाल दिसम्बर से पहड़िया मंडी में अस्थायी काम शुरू करने का निर्णय लिया गया है। श्री शर्मा के मुताबिक किसान बाजार के लिए डेढ़ से दो एकड़ जमीन की जरूरत पड़ेगी। जमीन शहर से सटी होनी चाहिए। इस संबंध में वीडीए को जमीन तलाशने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

हर गांव में गठित होगा समूह
लघु कृषि व्यापार संघ पिछले दो माह से बनारस में रहकर किसानों की समिति गठित करने में लगा है। जिसमें प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र से जुड़े दो विधानसभा क्षेत्रों रोहनियां व सेवापुरी विधानसभा से जुड़े गांवों में 1020 किसानों की अलग-अलग समिति गठित कर संघ से जोड़ा जा चुका है।

इसके अलावा चिरईगांव एवं हरहुआ विकासखंड में भी 1000 किसान जुड़ चुके हैं। आने वाले दिनों में हर गांव में समिति का गठन किया जाएगा। इसके साथ ही ब्लाक स्तर पर क्लस्टर जोन बनाया जाएगा। फिर समिति का एक फेडरेशन होगा। जो सब्जी उत्पादकों को बेहतर बाजार उपलब्ध कराने का साधन मुहैया कराएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बनारस में खुलेगा पूर्वांचल का पहला किसान बाजार