DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ये पांच आविष्कार बदल देंगे आपकी जिंदगी

ये पांच आविष्कार बदल देंगे आपकी जिंदगी

नया साल अब दूर नहीं है। आने वाले समय में स्वास्थ्य, संचार और उर्जा जैसे मुद्दों के साथ विज्ञान और तकनीक के विकास पर भी सबका ध्यान होगा। विज्ञान और तकनीक ने आज हमारी जिंदगी को आसान बना दिया है, लेकिन साल 2014 में कुछ ऐसे अविष्‍कार किए गए, जो भविष्‍य की रुपरेखा तैयार कर सकते हैं।

इलेक्‍ट्रो टेलिपेथिक कम्‍यूनिकेशन
टेलिपेथी शब्‍द का मतलब एक वैज्ञानिक तकनीक से है, जिसमें किसी एक व्‍यक्ति की सोच किसी दूसरे व्‍यक्ति तक पहुंचती है, यानि आप क्‍या सोच रहे है, इसे हजारों किलोमीटर दूर बैठे व्‍यक्ति तक पहुंचाया जा सकता है। अब वैज्ञानिकों ने दिमाग से दिमाग के बीच होने वाले संचार को खोज निकाला है। इसे बारसिलोना के स्‍टार लैब और फ्रांस के ऑक्‍सियम रोबोटिक्‍स इन स्‍टारबर्ग ने खोजा है। यह प्रोजेक्‍ट अभी शुरुआती चरण में है, लेकिन इसमें 8,000 किलोमीटर की दूरी में बैठे लोगों के बीच संचार स्‍थापित करने में सफलता मिल चुकी है। आने वाले समय में आप अपनी सोच किसी को भी इस तकनीक के माध्‍यम से बता सकते हैं।

नैनोट्यूब हाइड्रोजन फ्यूल
दुनिया में ऊर्जा के स्रोत धीरे-धीरे खत्‍म हो रहे हैं, अगर इनका कोई ठोस विकल्‍प नहीं खोजा गया, तो एक दिन पूरी दुनिया में अंधेरा हो जाएगा। मगर अब एक ऐसा तरीका खोज लिया गया है, जो हमें सस्‍ती ऊर्जा मुहैया करा सकता है, ये हैं सस्‍ते नैनोट्यूब हाइड्रोजन फ्यूल। न्‍यूजर्सी की रटगर्स यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कार्बन हाईड्रोजन फ्यूल को ऊर्जा की तरह प्रयोग करने का विकल्‍प खोजा है। मोटे तौर पर समझे तो वैज्ञानिकों ने कार्बन नैनो ट्यूब को इलेक्‍ट्रोलेसिस रिएक्‍शन की मदद से हाईड्रोजन फ्यूल में बदलने का तरीका खोज निकाला है।

लिक्‍विड डेटा स्‍टोरेज डिवाइस
हमारे चारों तरफ डेटा है। यह किसी भी रूप में हो सकता है, चाहे सेलफोन को ले लीजिए या फिर क्‍लाउड सर्वर के रूप में। न्‍यूयार्क की मिशिगन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक ऐसी डिवाइस बनाई है, जिसकी मदद से ज्‍यादा से ज्‍यादा डेटा कम स्‍पेस में स्‍टोर किया जा सकता है। लिक्‍विड डेटा स्‍टोरज डिवाइस की मदद से ऐसा करने में वैज्ञानिकों ने सफलता पाई है।

आर्टीफीशियल ब्‍लड सप्‍लाई
खून हमारी जिंदगी है, जो हमारे शरीर को चलाने का काम करती है। लेकिन जब हमें इमरजेंसी में खून की जरूरत पड़ती है और उस समय खून न मिले, तो ऐसे समय में जान का खतरा भी हो सकता है। मगर अब कृत्रिम लाल और सफेद रक्त सेल की मदद से किसी को भी आसानी से खून मिल सकेगा। फिलहाल ओ निगेटिव सेल बनाए गए है, जो सर्वदाता (यूनीवर्सल डोनर) है। यानि आने वाले समय में किसी को भी खून की कमी नहीं होगी।

कैंसर कंट्रोलिंग जीन
कैंसर हर साल दुनिया में करोड़ों लोगों की जान लेता है, लेकिन अब वैज्ञानिकों ने DIXDC1 (डीआईएक्सडीसी 1) नाम की एक जीन खोज निकाली है, जो कैंसर को रोकने में कारगर साबित होती है। DIXDC1 (डीआईएक्सडीसी 1) जीन को ब्‍लॉक करने पर कैंसर सेल के बढ़ने की गति रुक जाती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ये पांच आविष्कार बदल देंगे आपकी जिंदगी