DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रपति को उम्मीद वृंदावन बनेगा दुनिया के आध्यात्मिक ज्ञान का केंद्र

वृंदावन में दुनिया के सबसे उंचे श्रीकष्ण मंदिर के निर्माण के लिए आज यहां विशेष पूजा करने आए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि वृंदावन को दुनिया के आध्यात्मिक ज्ञान का केंद्र बनने की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए।
     
वास्तुकला के आश्चर्य चंद्रोदय मंदिर में भगवान श्री कृष्ण के काल के वैभव को दर्शाने का प्रयास किया जाएगा। इस मंदिर की उंचाई दिल्ली के 72.5 मीटर उंचे कुतुब मीनार की तिगुनी होगी।
     
राष्ट्रपति ने कहा, मुझे खुशी है कि भारत सरकार और उत्तर प्रदेश की सरकार ने वृंदावन को धार्मिक पर्यटन स्थल के तौर पर विकसित करने की दिशा में कई कदम उठाए हैं।
     
मुखर्जी ने कहा, वर्तमान परियोजना इन पहल में नया आयाम जोड़ती है और उम्मीद है कि इससे स्थानीय समुदाय तथा अर्थव्यवस्था दोनों को सकारात्मक लाभ मिलेगा।
     
राष्ट्रपति ने उम्मीद जताई कि वृंदावन को दुनिया के जाने माने आध्यात्मिक ज्ञान केंद्र के तौर पर उभरना चाहिए जहां से पूरी मानवता को ईश्वर और शांति के संदेश का प्रसार हो।
     
मुखर्जी ने बताया कि किसी सभ्य समाज को निश्चित ही सच्चाई और करूणा के प्राचीन मूल्यों का अनुसरण करना चाहिए। उन्होंने बताया, श्रीमद भागवतम में अध्यात्म के चार स्तंभों - सत्य, करूणा, साधना और पवित्रता का वर्णन किया गया है। सभ्य समाज इन्हीं मूल्यों के इर्द गिर्द विद्यमान है और इन्हीं के इर्द गिर्द वह संचालित होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राष्ट्रपति को उम्मीद वृंदावन बनेगा दुनिया के आध्यात्मिक ज्ञान का केंद्र