DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोहनपुर पुलिस कैम्प हथियारबंद लोगों का हमला

मोहनपुर थाना क्षेत्र के सिरिया गांव के समीप पुनासी नहर केनाल पर निर्माणधीन पुलिया के कैम्प पर शुक्रवार देर रात अज्ञात नकाबपोश हथियारबंद अपराधियों ने धावा बोल दिया। हथियारबंदों ने कैम्प कर्मी व मुंशी से मारपीट कर हजारों के सामान भी ले लिए। करीब 12 घंटे बाद देवघर एसडीपीओ दीपक कुमार पाण्डेय व मोहनपुर थाना प्रभारी अजय कुमार घटनास्थल पहुंचे। मामले की छानबीन की।

एसडीपीओ ने कैम्प के मुंशी और अन्य कर्मियों से पूछताछ की। घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार रिखिया-रढ़िया मुख्य मार्ग पर सिरिया गांव के निकट रात करीब 11 बजे दजर्नभर अज्ञात अपराधियों ने धावा बोल दिया। सभी कैम्प में ड्यूटी कर रहे नाईट गार्ड के साथ मारपीट करने लगे। कैम्प रूम में सोए मुंशी जवाहर लाल यादव को दरवाजा खोलने कहा। मुंशी द्वारा दरवाजा नहीं खोले जाने पर गोली मारने की धमकी दी गई। धक्का मारने पर दरवाजा खुल गया और उनलोगों ने मुंशी की पिटायी शुरू कर दी।

कैम्प के मुंशी जवाहर लाल यादव, नाईट गार्ड अरूण राय और महेन्द्र राय समेत कर्मी गिरो मोदी व जेसीबी हेल्पर के साथ मारपीट की गई। अपराधकर्मी मुंशी की मोबाईल, नाईट गार्ड का तीन टॉर्च व ट्रैक्टर की बैट्री खोलकर ले गए। जाते समय मुंशी को चेतावनी दी गई कि अविलम्ब 20 लाख रुपए की लेवी दो या जगह छोड़ दो। ऐसा नहीं करने पर बुरे अंजाम की चेतावनी दी गई। मुंशी ने पुलिस को दिए गए बयान में कहा है कि नकाबपोश अपराधी निर्माणधीन पुलिया साईट को चारों तरफ से घेरे थे। सभी खुद को प्रतिबंधित नक्सली संगठन जेपीसी के कथित लोहा सिंह का आदमी कहकर बीस लाख रुपए लेवी के रूप में देने की मांग कर रहे थे। ठेकेदार का मोबाइल नम्बर मांग रहे थे। बताया जाता है कि सभी अपराधकर्मी मोटरसाइकिल से आए थे। कैम्प से कुछ दूर बाइकें रखी र्गई थीं।

सूचना के 12 घंटे बाद पहुंची पुलिस :-
पुनासी नहर केनाल पर निर्माणाधीन पुलिस के कैम्प पर धावा बोलकर दहशत फैलाने की घटना की जानकारी ठेकेदार पवन सिंह द्वारा मोहनपुर थाना को देर रात ही दी गई थी। थाना को सूचना देने के बाद ठेकेदार खुद रात में ही घटनास्थल पर पहुंच गए। लेकिन 12 घंटे बीत जाने के बाद पुलिस घटनास्थल पर पंहुची।

घटनास्थल के करीब पुलिस पिकेट, नहीं लगी भनक :-
सिरिया में केनाल पर निर्माणधीन पुलिया कैम्प से कुछ ही दूरी पर नया चितकाठ पुलिस पिकेट है। बावजूद कैम्प में हथियारबंद अपराधियों के हमले की भनक पिकेट के जवानों को नहीं लग सकी। घटनास्थल से पिकेट की दूरी करीब दो किलोमीटर है। पिकेट करीब तीन साल से नयाचितकाठ में है लेकिन वहां के जवानों को क्षेत्र की सुरक्षा-व्यवस्था में नहीं लगाया गया है। ग्रामीणों के अनुसार पिकेट जवान द्वारा क्षेत्र में गश्ति भी नहीं की जाती है। घटना के बाद एसडीपीओ दीपक कुमार पाण्डेय ने मोहनपुर थाना प्रभारी को पिकेट जवानों को दिन और रात में गश्त में लगाने का निर्देश दिया है।

क्या कहते हैं एसडीपीओ :-
एसडीपीओ दीपक कुमार पाण्डेय ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि मामले को लेकर अज्ञात अपराधियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि जेपीसी के कथित जोनल कमांडर लोहा सिंह का नाम अपराधी ले रहे थे। पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है। नया चितकाठ पुलिस पिकेट जवानों को गश्त करने का आदेश दिया गया है। मामले का उद्भेदन जल्द कर लिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मोहनपुर पुलिस कैम्प हथियारबंद लोगों का हमला