DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आगरा-दिल्ली के बीच हुआ ट्रेन प्रोटेक्शन वार्निग सिस्टम डिवाइस का ट्रायल

आगरा-दिल्ली के बीच गतिमान एक्सप्रेस सहित अन्य तेज गति वाली ट्रेनों में ट्रेन प्रोटेक्शन वार्निग सिस्टम (टीपीडब्ल्यूएस) लगाने के लिए शनिवार को डिवाइस का ट्रायल किया गया। शताब्दी कोच वाली एक स्पेशल ट्रेन निजामुद्दीन स्टेशन से रवाना होकर दोपहर में बिल्लोचपुरा स्टेशन आई, फिर यहां से निजामुद्दीन के लिए रवाना हुई। डिवाइस लगी यह ट्रेन बीच में कई जगह सिग्नल ओवर शूट करते हुए दौड़ी। इस दौरान आरडीएसओ की टीम ने हर बारीकी को परखा। रविवार को भी ट्रायल होगा। उसके बाद फाइनल रिपोर्ट सौंपी जाएगी।

रेलवे आगरा-दिल्ली के बीच देश की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन गतिमान एक्सप्रेस चलाने जा रहा है। कई खूबियों से लैस इस ट्रेन को दुर्घटनाओं से बचाने वाली रेलवे की आधुनिक डिवाइस ट्रेन प्रोटेक्शन वार्निग सिस्टम (टीपीडब्ल्यूएस) भी लगाने का निर्णय लिया गया है। इसी के तहत ट्रेन संचालन से पहले रेलवे ने इस डिवाइस का आगरा-दिल्ली सेक्शन के बीच शनिवार को ट्रायल किया।

ट्रायल के लिए गतिमान एक्सप्रेस सरीखी ट्रेन ही चुनी गई थी। शताब्दी कोच वाली एक विशेष ट्रेन सुबह 11.20 बजे निजामुद्दीन स्टेशन से आगरा के लिए रवाना हुई। लगभग दो घंटे 15 मिनट बाद ट्रेन करीब 1.35 बजे ट्रेन बिल्लोचपुरा स्टेशन पर आकर रुकी। ट्रेन के इंजन मे टीपीडब्ल्यूएस डिवाइस लगाई गई थी। आरडीएसओ और रेल अफसरों की टीम ने इंजन में बैठकर इस डिवाइस का बीच ट्रैक पर परीक्षण किया। रेल अधिकारियों के मुताबिक पलवल, भूतेश्वर, मथुरा स्टेशन के आउटर में, रुनकता सहित कई जगह पर डिवाइस का परीक्षण करने के लिए सिग्नल को ओवर शूट किया गया। लाल सिग्नल करने के बाद ट्रेन को पार कर देखा गया कि डिवाइस किस तरह काम करती है। रेल सूत्रों के मुताबिक हर बार डिवाइस ने सही परिणाम दिए। इस पर अफसरों ने खुशी जताई। बाद में दोपहर 2.15 बजे ट्रेन निजामुद्दीन के लिए यहां से रवाना हो गई। वापसी में भी डिवाइस का परीक्षण किया गया।

ट्रायल के दौरान बीच में रोकी गईं कुछ ट्रेनें
सिग्नल प्रणाली को मैनुअल सेट कर ट्रेन में डिवाइस का परीक्षण किया गया। इस दौरान डाउन रूट की कुछ ट्रेनों को बीच में रोक-रोक कर गुजारा गया था।

आज फिर होगा ट्रायल
रेलवे रविवार को भी इस ट्रैक पर एक ट्रायल और करेगा। इसके बाद ट्रायल की फाइनल रिपोर्ट आरडीएसओ को सौंपी जाएगी। आरडीएसओ से ट्रायल का सर्टिफिकेट मिलते ही इस डिवाइस को गतिमान एक्सप्रेस में लगाया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आगरा-दिल्ली के बीच हुआ ट्रेन प्रोटेक्शन वार्निग सिस्टम डिवाइस का ट्रायल