DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संपर्क यात्रा: नीतीश कुमार ने जदयू कार्यकर्ताओं में जोश भरा

पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को सारण के जदयू कार्यकर्ताओं में जोश भरा और आहाव्न किया कि वे 2015 तक चैन से न बैठें और झूठ का भंडाफोड़ करें।रोज मीटिंग करें और गांवों में चौपाल लगायें। न्याय के साथ विकास करने और बिहार का सम्मान बढ़ाने वाली सरकार बनाने का संकल्प लें। जरूरत पड़े तो सामाजिक सद्भाव व सौहाद्र्र के लिए जान की बाजी तक लगा दें।

संपर्क यात्रा के तीसरे दिन वे छपरा के रामजयपाल कॉलेज में आयोजित राजनैतिक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान केंद्र सरकार, प्रधानमंत्री और भाजपा पर उन्होंने हमलावर अंदाज दिखाया और कहा कि उन पर आरोप लगाया जा रहा है कि लालूजी से हाथ मिला लिये। इन लोगों ने महाराष्ट्र में क्या किया? चुनाव प्रचार में जिसे भ्रष्टाचारवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) कहा करते थे, उसी से हाथ मिला लिया। इसमें कोई संदेह नहीं कि बिहार में कानून का राज कायम हुआ है और वे कानून के राज, सद्भाव व सौहाद्र्र से किसी भी कीमत पर समझौता नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि लोस चुनाव में सबकुछ एकतरफा कहा गया। प्रमाण के तौर पर घोषणाओं का बारी-बारी से टेप बजवाया और बिहार को विशेष दर्जा व विशेष सहायता देने, सौ दिनों में काला धन वापस लाकर हर गरीब को 15-20 लाख देने के वायदों की जनता के बीच पोल खोलने का आान किया। जन-धन योजना के तहत खोले गये खातों पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि इन खातों में एक भी पैसा जमा नहीं हुआ है तो एक लाख रुपये के दुर्घटना बीमा का लाभ भी नहीं मिलने वाला। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कार्यकर्ताओं से गरीबों के पास जाकर पूछने को कहा कि उनके खाते में केंद्र सरकार का पैसा हजार में भी गया क्या? प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कार्यकर्ताओं को भोजपुरी में ही संगठन में किये गये परिवर्तन के बारे में बताया और कहा कि आज प्रचार तंत्र व इसके बहुतेरे संसाधनों के बल पर राजनीति की जा रही है। केवल उसूल व सिद्धांत की राजनीति से इसका मुकाबला संभव नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संपर्क यात्रा: नीतीश कुमार ने जदयू कार्यकर्ताओं में जोश भरा