अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अनाथ-बेसहारों की संवर रही तकदीर

अब अनाथ-बेसहारों की तकदीर भी संवर रही है। रोड पर कूड़ा चुननेवाले हों या फिर अनाथ, जिस बच्चे ने इस दरवाजे पर दस्तक दी, उसके रहने-खाने और पढ़ने का पूरा इंतजाम। समाज कल्याण संस्थान किशोरनगर नामकुम में इस समय 850 बच्चे पढ़ रहे हैं। फादर विक्टर वारटल स्थापनाकाल से ही बच्चों को न केवल संवार रहे हैं, बल्कि उन्हें मां-बाप का प्यार भी मिलता है। जनवरी 1में 85 बच्चों के साथ इस संस्थान की नींव डाली गयी थी। करीब 200 एकड़ में फैले स्कूल परिसर में खेती भी की जाती है। इस स्कूल में मैट्रिक तक की शिक्षा के साथ रहने-खाने की व्यवस्था भी की जाती है। फादर वारटल कहते हैं कि कभी-कभी आर्थिक तंगी महसूस होती है, लेकिन इसका असर बच्चों पर नहीं पड़ता है। उनका मानना है कि अभाव में प्रतिभा निखरती है। मंत्री की घोषणा, मिड डे मिल मिलेगा बच्चों को मंगलवार को स्कूल पहुंचे शिक्षा मंत्री ने कहा कि सभी बच्चों को दोपहर का भोजन एवं ड्रेस सरकार की ओर से दिया जायेगा। मौके पर किताब एवं खेल सामग्री का वितरण किया गया। करीब दो घंटे तक मंत्री ने यहां रुक कर छात्रों से बातचीत की। शिक्षा मंत्री ने सभी कमरों में पंखोलगाने की बात भी की। मंत्री के साथ शिक्षा विभाग के भी कई अधिकारी थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अनाथ-बेसहारों की संवर रही तकदीर