DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीनिवासन के बोर्ड अध्यक्ष बनने पर फिर फंसा पेच

श्रीनिवासन के बोर्ड अध्यक्ष बनने पर फिर फंसा पेच

स्पॉट फिक्सिंग मामले में मुद्गल समिति की रिपोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई की सालाना आम सभा (एजीएम) पर भी रोक लगा दी है। मामले की अगली सुनवाई 24 नवंबर को होगी। इसे देखते हुए बोर्ड ने 20 नवंबर को होने वाली एजीएम रद्द कर दी क्योंकि कोर्ट ने इस दिन होने वाले चुनाव में एन. श्रीनिवासन के खड़े होने को हरी झंडी नहीं देकर उन्हें तगड़ा झटका दिया। इससे श्रीनिवासन के बोर्ड अध्यक्ष पद पर काबिज होने का सपना चूर हो गया। श्रीनिवासन शुरू से ही बोर्ड अध्यक्ष पद पर अपने कब्जे में रखने को लेकर हर तरह की जोड़-तोड़ करने में लगे हैं।

शुक्रवार को हुई सुनवाई के दौरान बीसीसीआई के वकील सीए सुंदरम ने 20 नवंबर को प्रस्तावित एजीएम और बोर्ड के चुनाव में श्रीनिवासन को भाग लेने की इजाजत देने की मांग की। इस पर दो सदस्यीय पीठ के जस्टिस टीएस ठाकुर ने साफ इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि हम आपको इस मामले के खत्म होने तक इसकी इजाजत नहीं दे सकते। उनके इस रुख से बोर्ड के चुनाव अधर में लटक गए। बाद में सुंदरम ने कोर्ट को बताया कि फिलहाल एजीएम को एक महीने के स्थगित किया जा रहा है।

इसके अलावा आईसीसी चेयरमैन श्रीनिवासन खुद ही अपने बयानों में फंस गए हैं। पिछली बार जब उनसे पूछा गया कि अपने दामाद गुरुनाथ मयप्पन के स्पॉट फिक्सिंग प्रकरण में आरोपी होने के बाद क्या वह बीसीसीआई अध्यक्ष पद से हटेंगे?  तब उन्होंने यही कहा कि वह मुद्गल समिति की जांच के दायरे में नहीं हैं। ऐसे में उनके हटने का सवाल ही नहीं उठता। उन पर कोई आरोप नहीं हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:श्रीनिवासन के बोर्ड अध्यक्ष बनने पर फिर फंसा पेच