DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब सरकारी स्कूलों के छात्र भी चश्मा पहने नजर आएंगे

जिले के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए अच्छी खबर है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिले के सभी सरकारी स्कूलों के छात्रों की नेत्र जांच की जाएगी। नजर कमजोर मिलने पर चश्मे भी निशुल्क उपलब्ध कराए जाएंगे। अगले सप्ताह से प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।
स्वास्थ्य विभाग और शिक्षा विभाग की ओर से प्रदेश में स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इसके तहत लक्ष्य है कि सभी स्कूलों के छात्रों की समय-समय पर स्वास्थ्य जांच की जाए और यदि किसी प्रकार की समस्या सामने आती है तो उसका सही और तुरंत इलाज भी शुरू किया जाए।

चलंत चिकित्सा इकाई गठित की
स्वास्थ्य विभाग ने स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत चलंत चिकित्सा इकाई गठित की है। जिलेभर के सरकारी स्कूलों में चिकित्सा जांच शिविर चलाने के लिए 11 चलंत दल का गठन किया गया है। इनमें डॉक्टर, एएनएम नर्स, फार्मासिस्ट सहित अन्य कर्मचारियों की नियुक्ति भी की गई है। ये दल शेड्यूल बनाकर जांच अभियान चलाती है। जरूरत पड़ने पर छात्रों को सामान्य अस्पताल भेजा जाता है, जहां उनका उपचार शुरू किया जाता है।

जांच के बाद दिया जाएगा चश्मा
इसी योजना के तहत अब नई योजना बनाई गई है। सूत्र बताते हैं कि अब सभी छात्रों की नेत्र जांच की जाएगी। नजर कमजोर मिलने पर चश्मा भी उपलब्ध कराया जाएगा। बताया जा रहा है कि आंख की जांच होने के दो दिन के भीतर छात्र को चश्मा उपलब्ध करा दिया जाएगा। हालांकि नेत्र जांच का कार्य विभाग ने पहले ही अपने स्तर पर शुरू कर दिया था, लेकिन अब चश्मा बनाने से पहले भी एक बार दोबारा जांच की जाएगी। बताया जा रहा है कि यह कार्य एक सप्ताह के भीतर शुरू हो जाएगा।

स्वास्थ्य विभाग ने की तैयारियां शुरू
स्वास्थ्य विभाग ने इस संबंध में तैयारियां शुरू कर दी हैं। निर्देश विभाग को प्राप्त हो चुका है और चश्मा बनाने को लेकर सामान्य अस्पताल में ही व्यवस्था की जा रही है। विभाग के स्थानीय अधिकारियों ने चलंत चिकित्सा इकाई के सदस्यों को आवश्यक निर्देश जारी भी कर दिए हैं।

नियमित इलाज भी होगा शुरू
जांच के दौरान जिन छात्रों को नियमित जांच की जरूरत महसूस होगी, उन्हें विभाग की ओर से नियमित इलाज भी दिया जाएगा। सीएमओ ने विशेष रूप से अधिकारियों को निर्देश जारी किए है।

गंभीरता से काम करें डॉक्टर : लोकवीर सिंह
इस योजना को लेकर अधिकारी व्यक्तिगत रूप से प्रयास कर रहे हैं। डिप्टी सीएमओ डॉ. लोकवीर सिंह ने बताया कि डॉक्टरों को निर्देश दिए गए हैं कि छात्रों के स्वास्थ्य का खास तौर पर ख्याल रखा जाए, क्योंकि छात्र देश का भविष्य हैं। उनका मानना है कि स्वास्थ्य के प्रति किसी को भी लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए, यदि मामला बच्चों का हो तो और भी गंभीरता से काम करने की जरूरत है। इसलिए इस योजना पर गंभीर रूप से काम करने के आदेश जारी किए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अब सरकारी स्कूलों के छात्र भी चश्मा पहने नजर आएंगे