अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार के माओवादियों को नेपाल का झटका

बिहार के माओवादियों को नेपाली माओवादियों ने जोर का झटका दे दिया है। नेपाल में माओवादियों के सत्ता में आने के साथ ही कयास लगाया जा रहा था कि बिहारी माओवादियों से उनकी प्रगाढ़ता बढ़ेगी। इन अटकलों पर विराम लगाते हुए नेपाली माओवादियों ने बिहारी माओवादियों की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ाने से साफ इनकार कर दिया है। भाकपा(माओवादी) ने नेपाली माओवादियों की रणनीति से असहमति जताई थी। नेपाली माओवादियों ने अब भाकपा (माओवादी) को टका सा जवाब दे दिया है।ड्ढr ड्ढr उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि बिहारी माओवादियों की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ाने का कोई मतलब नहीं है। बिहार दौर पर आए नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के पोलित ब्यूरो के सदस्य सी.पी.गजुरल ने दो टूक कहा है कि जब भाकपा(माओवादी) उनकी रणनीति को ही गलत मानते हैं तो फिर उनसे दोस्ती का कोई सवाल ही नहीं उठता। पिछले दिनों भाकपा(माओवादी) के महासचिव गणपति ने कहा था कि 21 वीं सदी के प्रजातंत्र के नाम पर कम्प्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (माओवादी) ने जो कदम उठाया है उससे नेपाल के लोकयुद्ध में भटकाव का गंभीर खतरा पैदा हो गया है। यह क्रांति को दुष्प्रभावित करगा। उन्होंने नेपाली माओवादियों को आगाह भी किया है कि संसदीय प्रजातंत्र के विषय में उन्हें भ्रम नहीं रखना चाहिए। दोस्ती की राह में नेपाली और भाकपा (माओवादी) की सोच के रोड़े से नया गतिरोध पैदा हो गया है। साथ ही यह अटकलें भी खारिज होती दिख रही हैं कि नेपाल की सत्ता माओवादियों के हाथ आने से बिहारी माओवादियों को बल मिलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिहार के माओवादियों को नेपाल का झटका