DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर-अपवंचना मुद्दे पर आक्रामक रुख अख्तियार करेगा जी-20!

कर-अपवंचना मुद्दे पर आक्रामक रुख अख्तियार करेगा जी-20!

ऑस्ट्रेलिया ने सप्ताहांत शुरू होने वाली जी-20 की वार्ता में कर अपवंचना के मुद्दे पर आक्रामक रुख अख्तियार करने का फैसला किया है। लग्जमबर्ग की बहुराष्ट्रीय कंपनियों को इस मामले में सुविधाजनक व्यवस्था को लेकर विवाद गहरा गया है।

इस सप्ताहांत जी-20 शिखर सम्मेलन में कॉरपोरेट कर की खामियों को दूर करना और पारदर्शिता बढ़ाने के लिए साझा रिर्पोटिंग मानदंड अपनाने जैसे मुद्दे बातचीत के केंद्र में रहेंगे। लेकिन आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन (ओईसीडी) ने चेताया है कि यदि इस तरह की सभी के लिए समान अवसर वाली परिस्थितियां हासिल हो जाती है,  तो इससे एप्पल व गूगल जैसी डिजिटल कंपनियों से राजस्व आकर्षित करने को लेकर  प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी, क्योंकि कर पनाहगाह बंद हो रहे हैं।

दुनिया की ताकतवर अर्थव्यवस्थाओं के नेता चाहते हैं कि यह सुनिश्चित हो कि कंपनियां वहीं पर कर अदा करें जहां उन्हें मुनाफा हुआ है। और वे ऐसे जटिल वित्तीय ढांचे का इस्तेमाल न कर पाएं जिसमें उन्हें अपनी देनदारियां घटाने की सुविधा मिले, जिससे सरकारों को अरबों डॉलर का राजस्व का नुकसान होता है।

मेजबान देश ऑस्ट्रेलिया ने कर अपवंचना को इस बार जी-20 का मुख्य मुद्दा बनाया है। वित्त मंत्री जोए हॉकी का कहना है कि कंपनियों का मुनाफे को स्थानांतरित करने का व्यवहार चोरी के समान है। उन्होंने जी-20 में इस मुद्दे पर आक्रामक रुख अपनाने की प्रतिबद्धता जताई है। अमेरिका ने भी इस योजना को अपना समर्थन दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कर-अपवंचना मुद्दे पर आक्रामक रुख अख्तियार करेगा जी-20!