DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जीतनराम मांझी पर बेतियाब रोसड़ा कोर्ट में परिवाद दायर

केवल दलित व आदिवासी को देश का मूल निवासी और सवर्णो को विदेशी कहने पर मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के खिलाफ बेतिया और रोसड़ा कोर्ट में परिवाद दायर किया गया है। बेतिया में पुरानी गुदरी निवासी संजय कुमार मिश्र ने सीजेएम राजकिशोर पाण्डेय के कोर्ट में मुकदमा दायर किया है।

इसमें आरोप है कि मुख्यमंत्री द्वारा सार्वजनिक रूप से दिया गया उक्त भाषण समाज में घृणा व विद्वेष फैलाने वाला है। एक उच्च पद पर आसीन व्यक्ति के ऐसे निराधार बयान को वादी ने अगड़ी जातियों का अपमान बताया है। जागा भारत अभियान से जुड़े श्री मिश्र ने वाद के समर्थन में जिले के विभिन्न क्षेत्रों के चार गवाहों का उल्लेख किया है।

सीजेएम ने मुकदमे प्रथम श्रेणी के न्यायिक दंडाधिकारी आरके राय के कोर्ट में स्थानांतरित करते हुए सुनवाई की अगली 10 दिसंबर तय की है। इधर, समस्तीपुर के हसनपुर प्रखंड के पटसा निवासी व प्रखंड कांग्रेस के प्रवक्ता विजय कुमार मिश्रा ने ऊंची जाति के लोगों को विदेशी कहे जाने को लेकर रोसड़ा व्यवहार न्यायालय के प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी कृष्ण कुमार के समक्ष अभियोग पत्र दायर किया है।

आरोप गया है कि सीएम के बेतुका बयान से उनकी तबीयत बिगड़ गयी। अभियोग पत्र में बिहार के मुख्यमंत्री का अस्थायी पता गया जिला के खिजरसराय थाना क्षेत्र के महकारा बताया गया है। गवाहों में पटसा निवासी अरुण कुमार मिश्र, शिवेश कुमार मिश्र, कुमार राहुल को शामिल किया गया है। प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी कृष्ण कुमार के समक्ष दायर किये गये उक्त मामले को लेकर कोर्ट परिसर में दिनभर चर्चा का बाजार गर्म रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जीतनराम मांझी पर बेतियाब रोसड़ा कोर्ट में परिवाद दायर