DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आगरा एक्सप्रेस वे की जमीन का होगा अधिग्रहण

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे के लिए काकोरी के 13 गांवों की 105 हेक्टेअर जमीन को अधिग्रहण करने की तैयारी है। इनमें आठ गांव के किसानों अपनी करीब 63 हेक्टेअर जमीन को देने के लिए तैयार भी हो गए हैं। शेष पांच गांव के किसान अपनी लगभग 42 हेक्टेअर जमीन को देने के लिए अभी राजी नहीं हैं। वे अपनी जमीन के बदले में 50 लाख रुपए प्रति बीघा मांग रहे हैं। जिला प्रशासन ने अभी तक जमीन का बैनामा डीएम सर्किल रेट के चार गुना दर के आधार पर तय किया है जोकि इस समय 16 लाख रुपए प्रति बीघा है। पांच गांव के किसानों की मांग के आधार पर सरकार से दरों में इजाफा करने की मांग की गई है। यदि दरें नहीं बढ़ती हैं तो 16 लाख रुपए प्रति बीघे की दर से किसानों की जमीन को अधिग्रहण करने की धारा-6 की कार्रवाई होगी। इसी आधार पर किसानों की जमीन का मुआवजा मिलेगा और जमीन का बैनामा भी होगा।

21 को शिलान्यास का होगा लाइव कवरेज
सीएम अखिलेश यादव 21 नवम्बर को अपने आवास पर आगरा एक्सप्रेस वे का शिलान्यास करेंगे। लगभग 300 किलोमीटर लंबे आगरा एक्सप्रेस वे के लिए पांच स्थानों पर भूमि पूजन होगा। इसका सीधा प्रसारण किया जाएगा। लखनऊ में आगरा एक्सप्रेस वे का शिलान्यास काकोरी के सरोसा-भरोसा गांव में होगा। इसके लिए डीएम राज शेखर ने अपनी तैयारी भी आरंभ कर दी है।

काकोरी के 16 गांवो को होगा शहरीकरण
एलडीए आगरा एक्सप्रेस वे से लगे 16 गांवों का शहरीकरण भी कराएगा। इन गांवों को एलडीए ने अपनी सीमा में शामिल करने का ऐलान भी कर दिया है। डीएम राज शेखर का कहना है कि इन गांवों में एक्सप्रेस वे के लिए जमीन देने वाले गांव भी शामिल हैं। उन्होंने बताया कि सभी 13 गांवों में यूपीडा की मदद से सभी बुनियादी सुविधाएं दिलाई जाएंगी। इनमें सड़क, पानी व सीवर पाइपलाइन के अलावा अन्य चीजें शामिल होंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आगरा एक्सप्रेस वे की जमीन का होगा अधिग्रहण