DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वर्धमान ब्लास्टः एनआइए टीम का संथाल के मदरसा में छापा

वर्धमान ब्लास्टः एनआइए टीम का संथाल के मदरसा में छापा

वर्धमान बम ब्लास्ट के सिलसिले में गुरुवार को एनआइए की टीम ने बरहड़वा के जामिया इस्लामिया सलफिया अब्दुल्लापुर मदरसा में छापेमारी की। सूत्रों के अनुसार एनआइए टीम मो. जाकरिया नाम के एक छात्र की तलाश में पहुंची थी। मो. जाकरिया के नहीं मिलने पर उसके कमरे में धुसकर विस्तर व तकिया की तलाशी ली। मदरसा में उसके साथ पढ़ने वाले छात्र से जाकरिया के संबंध में जानकारी ली।

सूत्रों के अनुसार बुधवार को पाकुड़ प्रखंड के संग्रामपुर के जहांगीर शेख व सलाउद्दीन से पूछताछ के बाद मो. जाकरिया का नाम सामने आया था। एनआइए टीम जाकरिया की तलाश में यहां आई थी। जाकरिया सुबह नौ बजे ही मदरसा से चला गया था। लोगों का कहना है कि छापेमारी की भनक उसे लग चुकी थी।

इस संबंध में जामिया इस्लामिया सलफिया मदरसा के प्रधान मौलवी असराफुल हक ने कहा कि उन्हें इसबारे में कोई जानकारी नहीं है। मो. जाकरिया करीब तीन महीने पहले यानी 10 अगस्त 14 को मदरसा में द्वोजा (कक्षा आठ) में नामांकन कराया था। मदरसा पंजी में उसके पिता का नाम रबिउल इस्लाम व घर का पता पाकुड़ जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के बेलडांगा दर्ज है। 

जहांगीर के मोबाइल से मिले हैं दो बांग्लादेशी मोबाइल नंबर
सूत्रों के मुताबिक एनआइए की टीम के साथ आईबी के अफसर भी वर्धमान ब्लास्ट पर तफ्सील से पड़ताल करती रही। बुधवार को एनआए के अफसरों ने हिरासत में लिए गए जहांगीर शेख एवं सलाउद्दीन शेख से देर रात दो बजे तक पुलिस लाईन में पूछताछ करती रही।

पूछताछ के पश्चात रात में ही एनआइए और आईबी के टीम रानीपुर स्थित मस्जिद में जहांगीर को लेकर पहुंची। टीम ने रात्रि में ही गगनपहाड़ी में भी संदिग्धों के तलाश में जांच पड़ताल की। हालांकि अभी तक किसी नई गिरफ्तारी की पुष्टि नहीं हो पाई है। समाचार भेजे जाने तक एनआइए की टीम साहेबगंज के विभिन्न इलाको में जांच पड़ताल में जुटी हुई थी।

इधर सूत्रों की मानें तो हिरासत में लिए गए जहांगीर शेख के घर से टीम को दो बंग्लादेशी मोबाईल नम्बर मिले हैं। जिसपर जहांगीर अपने मोबाईल नम्बर 7546849166 से लगातार बांग्लादेश के इन नंबरों के संपर्क में था था। जहांगीर ने यह नम्बर अपने पिता इस्रफील शेख के नाम से लिया था। उसने अपनी मां और छोटी बहन के नाम पर भी दो अन्य सिम ले रखा था।

जहांगीर ने वर्धमान ब्लास्ट में शामिल लोगों से लगभग तीन सौ से ज्यादा बार अपने मोबाईल से संपर्क किया था। उसने बंग्लादेश में भी सैकड़ों कॉल किए थे। इधर हिरासत में लिए गए सलाउद्दीन शेख ने भी 25 दिनों में लगभग 17 बार जहांगीर शेख से मोबाईल पर संपर्क साधा था। सूत्र बताते हैं कि जहांगीर पूर्व में पश्चिम बंगाल के अमतल्ला स्थित मदरसा में पढ़ता था।

आतंकी संगठन से जुड़े होने के संदेह पर मदरसा प्रबंधन ने जहांगीर सहित कुल 17 युवकों को मदरसे से निकाल दिया था। जिसके पश्चात जहांगीर ने भगलदिघी से पढ़ाई शुरू की थी। ज्ञात हो कि एनआइए और आईबी की टीम को भगलदिघी से पीन बम के अलावे बम बनाने का यंत्र, केमिकल आदि पड़ताल के दौरान मिला था। एनआइए की टीम ने पूर्व में पश्चिम बंगाल के अमतल्ला स्थित मदरसे में भी जांच के लिए रेड किया था।

इधर सूत्र बताते हैं कि एनआइए की टीम को पाकुड़ और साहेबगंज जिले में कई संदिग्धों की तलाश है। इस सिलसिले में टीम की रेड पाकुड़ के संग्रामपुर, मणिरामपुर, राजमहल, पश्चिम बंगाल के धुलियान, जंगीपुर, बहरमपुर आदि स्थानों पर हो सकती है। सूत्र बताते हैं कि एनआइए की जांच की आंच पाकुड़ विधानसभा क्षेत्र के एक रसूखदार नेता और उसके खास लोगों तक भी जा सकती है। उधर आईबी के सूत्रों के अनुसार गिरफ्तार किए गए लोगों को शुक्रवार को कोर्ट में पेश कर ट्रांजिट रिमांड पर एनआइए अपने साथ ले जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वर्धमान ब्लास्टः एनआइए टीम का संथाल के मदरसा में छापा