DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार में 770 मेगावाट बिजली का उत्पादन कल से

शनिवार से बिहार में 770 मेगावाट बिजली उत्पादन बढ़ जाएगा। मुजफ्फरपुर के कांटी थर्मल पावर की दूसरी यूनिट और बाढ़ थर्मल पावर के स्टेज दो की पहली यूनिट शुरू हो जाएगी। कांटी से 110 में से 100 मेगावाट तो बाढ़ थर्मल पावर में 660 में से 400 मेगावाट बिजली बिहार को मिलेगी। कुल 500 मेगावाट बिजली से पटना जैसे शहर को 24 घंटे बिजली दी जा सकती है।

बाढ़ से 65 फीसदी बिजली
बाढ़ थर्मल पावर प्लांट से पहले 50 फीसदी बिजली मिलनी थी। पश्चिम बंगाल के इनकार करने पर बिहार को 65 फीसदी बिजली मिलेगी। इस हिसाब से 1320 मेगावाट में बिहार को 859 मेगावाट बिजली मिलेगी। पहली यूनिट 660 मेगावाट में से 400 मेगावाट और छह महीने बाद दूसरी यूनिट शुरू हुई तो 400 मेगावाट से अधिक बिजली मिलेगी।

वाजपेयी ने रखी थी नींव
बाढ़ थर्मल पावर प्लांट की नींव तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने वर्ष 2000 में रखी थी। बिहार के पूर्व सीएम व तत्कालीन केंद्रीय मंत्री नीतीश कुमार के प्रयास से इस प्लांट की नींव रखी गई थी। सात साल में इसे पूरा होना था। स्टेज एक को पहले शुरू होना था पर रूस की कंपनी ऐसा करने में असफल रही। भेल ने स्टेज दो को 14 साल में बनाया तो अब यहां से बिहार को बिजली मिलेगी।

कांटी से 100 मेगावाट
कांटी थर्मल पावर की दूसरी यूनिट को फरवरी 2014 में ही शुरू होना था। 10 महीने बाद शुरू हो रही इस यूनिट से बिहार को 110 में से 100 मेगावाट बिजली मिलेगी। 1985 में बनी कांटी यूनिट से वर्ष 2002-03 में बिजली उत्पादन ठप हो गया। वर्ष 2005-06 में नीतीश सरकार ने कांटी थर्मल पावर की 472.80 करोड़ से मरम्मत कराने का निर्णय लिया।

2011-12 में कांटी से बिजली उत्पादन शुरू होना था पर भेल का काम धीमा होने से नवंबर 2013 में कांटी की पहली यूनिट शुरू हुई तो 15 नवंबर से दूसरी यूनिट शुरू हो रही है।

बिजली की दैनिक स्थिति
आवश्यकता : लगभग 3500 मेगावाट
केंद्रीय कोटा : 2149 मेगावाट
कमलांगा प्लांट, ओडिसा : 260 मेगावाट में औसतन 200 मेगावाट
हर रोज खरीद : 500-700 मेगावाट
औसतन उपलब्धता : 2300-2600 मेगावाट
बाढ़ व कांटी के बाद उपलब्धता : 3000 मेगावाट तक।

केंद्रीय मंत्री व सीएम करेंगे उद्घाटन
बाढ़ थर्मल पावर प्लांट के स्टेज एक की पहली यूनिट और कांटी थर्मल पावर की दूसरी यूनिट का उद्घाटन 15 नवंबर को होगा। केंद्रीय ऊर्जा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पीयूष गोयल व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी दोनों प्लांट का उद्घाटन करेंगे।

नई दिल्ली से पटना आने के बाद केंद्रीय मंत्री कांटी थर्मल पावर की दूसरी यूनिट का उद्घाटन करेंगे। इसके बाद मुजफ्फरपुर से वे पटना लौटेंगे और यहां से बाढ़ जाएंगे। बाढ़ प्लांट का उद्घाटन करने के बाद वे पटना में राजकीय अतिथिगृह में पत्रकारों से बातचीत कर देर शाम नई दिल्ली लौट जाएंगे।

उद्घाटन कार्यक्रम में एनटीपीसी के सीएमडी डॉ अरूप राय चौधरी, पूर्वी प्रक्षेत्र के क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक केएस गरबयाल सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहेंगे। बाढ़ थर्मल पावर प्लांट का उद्घाटन इस साल 25 जून को ही होना था पर छपरा में राजधानी रेल हादसा के कारण उद्घाटन कार्यक्रम को स्थगित किया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार में 770 मेगावाट बिजली का उत्पादन कल से