DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क 1.50 रुपये लीटर बढ़ा

पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क 1.50 रुपये लीटर बढ़ा

वित्तीय घाटे से चिंतित सरकार ने गुरुवार को पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क 1.50-1.50 रुपये लीटर बढ़ा दिया। इससे सरकार को 13,000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त राजस्व जुटाने में मदद मिलेगी।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के लगातार गिरते दाम से यह स्थिति बनी है। अगस्त के बाद से पेट्रोल के दाम लगातार छह बार घटे हैं, जबकि पिछले एक महीने में डीजल के दाम दो बार घटे हैं। ऐसी संभावना थी कि इस सप्ताहांत दोनों ईंधन के दाम में और कमी की जा सकती है।

लेकिन, अब जबकि सरकार ने राजस्व बढ़ाने के लिये उत्पाद शुल्क में वृद्धि का निर्णय किया है तो संभावित कटौती का असर नहीं दिखेगा। सरकार की अधिसूचना के अनुसार सामान्य यानी बिना ब्रांड वाले पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 1.20 रुपये से बढ़ाकर 2.70 रुपये लीटर कर दिया गया है। वहीं सामान्य डीजल पर उत्पाद शुल्क 1.46 रुपये से बढ़ाकर 2.96 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया है।

वहीं प्रीमियम यानी ब्रांडेड पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 2.35 रुपये से बढ़ाकर 3.85 रुपये लीटर तथा ब्रांडेड डीजल पर उत्पाद शुल्क मौजूदा 3.75 रुपये से बढ़ाकर 5.25 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया है।

राजकोषीय घाटा बढ़ने से चिंतित सरकार ने हाल ही में अपने खर्चों में मित्तव्ययिता बरतने के लिये सरकारी अधिकारियों की विदेश यात्रा पर अंकुश लगाने सहित कई उपायों की घोषणा की है।

उत्पाद शुल्क बढ़ने से पेट्रोल और डीजल दोनों के दाम में जहां वृद्धि होगी, वहीं अंतरराष्ट्रीय बाजार में दाम घटने से इनके दाम में आने वाली गिरावट का असर उत्पाद शुल्क वृद्धि से निरस्त हो जायेगा। परिणामस्वरूप दोनों ईंधनों के दाम यथावत बने रह  सकते हैं।

यह भी संभावना है कि सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियां शनिवार को होने वाली तेल मूल्यों की समीक्षा पहले ही कर लें ताकि उत्पाद शुल्क वृद्धि और कच्चे तेल के दाम की गिरावट का उपभोक्ता पर कोई असर नहीं पड़े। उत्पाद शुल्क वृद्धि से पहले दिल्ली में पेट्रोल 64.25 रुपये लीटर तथा डीजल 53.35 रुपये लीटर था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क 1.50 रुपये लीटर बढ़ा