DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव में महज तीन फीसदी महिलाओं को मिला टिकट

जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव में बस तीन फीसदी महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया गया है और उसमें सत्तारूढ़ नेशनल काफ्रेंस (नेकां) ने सर्वाधिक पांच महिलाओं को चुनाव मैदान में उतारा है।
      
बड़ी पार्टियों में नेकां ने तीन वर्तमान विधायकों समेत पांच महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया है। पार्टी 87 सदस्यीय विधानसभा के लिए 84 उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है।
      
हालांकि यह महिलाओं के 33 फीसदी आरक्षण से अभी मीलों दूर है जिस पर पिछले कई वर्षों से राष्ट्रीय स्तर पर विचार चल रहा है। नेकां ने जिन पांच महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया है उनमें समाज कल्याण मंत्री सकीना इटटू (नूरबाद सीट) और राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष शमीमा फिरदौस (हब्बाकाडल सीट) के जीतने की प्रबल संभावना है।
      
नेकां की बाकी तीन महिला उम्मीदवार जम्मू क्षेत्र की विभिन्न सीटों से चुनाव लड़ रही हैं जहां पार्टी पिछले दो दशक में अपना आधार काफी गंवा चुकी है।
      
कांग्रेस ने 84 उम्मीदवारों की अपनी सूची में तीन महिलाओं को टिकट दिया है। उनमें पूर्व स्वास्थ्य मंत्री सुमन भगत ही एकमात्र ऐसी उम्मीदवार हैं जिनके विधानसभा में दूसरे कार्यकाल के लिए पहुंचने की थोड़ी बहुत संभावना है। वह 2002 में चुनाव जीती थी लेकिन 2008 में हार गयी थीं। कांग्रेस की दूसरी उम्मीदवार खेमलता वाख्लू चुनाव मैदान में सोनवार सीट पर मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के सामने हैं। तीसरी उम्मीदवार शमीमा रैना जादिबाल सीट से चुनाव लड़ रही है।
      
पीडीपी ने एकमात्र महिला उम्मीदवार — आसिया नकाश को श्रीनगर में हजरतबल विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में उतारा है। भाजपा ने भी एक महिला — हिना भट को अमीरा कदल सीट से चुनाव मैदान में उतारा है। वह नेकां नेता मोहम्मद शफी भट की बेटी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव में महज तीन फीसदी महिलाओं को मिला टिकट