DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महाराष्ट्र में विश्वासमत पर बवाल, 5 विधायक निलंबित

महाराष्ट्र में 13 दिन की अल्पमत भाजपा सरकार ने बुधवार को ध्वनिमत से विश्वासमत हासिल कर लिया। इस दौरान शिवसेना-कांग्रेस ने सदन में मत विभाजन की मांग करते हुए जमकर हंगामा किया। अभिभाषण के लिए विधानभवन पहुंचे राज्यपाल से भी धक्कामुक्की की गई जिसमें उन्हें चोट लग गई। स्पीकर ने इस आरोप में कांग्रेस के पांच विधायकों को दो साल के लिए निलंबित कर दिया।

ध्वनिमत से प्रस्ताव पारित:भाजपा विधायक आशीष शेलार ने फडणवीस सरकार के पक्ष में विश्वासमत मांगते हुए एक पंक्ित का प्रस्ताव पेश किया। विधानसभा अध्यक्ष हरिभाऊ बागडमे ने इसे ध्वनिमत से पारित घोषित कर दिया।

आसन के पास तक पहुंचे : शिवसेना विधायक विरोध में अध्यक्ष के आसन के पास आकर नारेबाजी करने लगे। जल्द ही कांग्रेस के विधायक भी इस विरोध में शामिल हो गए। इस दौरान एनसीपी के विधायक शांत बैठे रहे क्योंकि वे भाजपा को समर्थन देने का ऐलान कर चुके थे।

राज्यपाल को हल्की चोटें आईं: अभिभाषण के लिए विधानभवन पहुंचे राज्यपाल  विद्यासागर राव का शिवसेना और कांग्रेस के सदस्यों ने घेराव किया। इस दौरान राज्यपाल से धक्कामुक्की की गई जिससे उनको व उनके सुरक्षाकर्मियों को हल्की चोटें लगीं। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही राजस्व मंत्री एकनाथ खडसे ने धक्कामुक्की करने वाले विधायकों को निलंबित करने का प्रस्ताव रखा। इसके बाद 12 विधायकों ने माफी मांगी लेकिन अध्यक्ष ने पांच को निलंबित कर दिया।

बागडमे निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए: सदन में सुबह परंपरा का निर्वाह करते हुए भाजपा उम्मीदवार हरिभाऊ बागडमे को निर्विरोध अध्यक्ष चुना गया। मुख्यमंत्री फडणवीस की अपील पर शिवसेना और कांग्रेस ने अपने-अपने उम्मीदवारों का नामांकन वापस ले लिया था।

शिंदे नेता प्रतिपक्ष बने : नवनिर्वाचित अध्यक्ष ने विपक्ष के नेता के पद पर शिवसेना के एकनाथ शिंदे के नाम की घोषणा की। वह शिवसेना के विधायक दल के नेता भी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महाराष्ट्र में विश्वासमत पर बवाल, 5 विधायक निलंबित