DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मदरसों का जेहाद से कोई लेना-देना नहीं

गृह मंत्रालय ने अपनी तमाम सुरक्षा एजेंसियों से मिले इनपुट के आधार पर मदरसों को लेकर एक आंतरिक रिपोर्ट तैयार की है। इसके अनुसार, भारतीय मदरसों का जेहादी गतिविधियों में लिप्त होने का कोई प्रमाण नहीं है। रिपोर्ट में कहा गया है कि देवबंद, अल हदीस, जमात और बरेलवी के अधीन संचालित होने वाले मदरसों से कोई जेहादी गतिविधियां संचालित नहीं होतीं।

रिपोर्ट के अनुसार,इन संस्थाओं के मदरसे पारंपरिक तरीके से शिक्षा दे रहे हैं। हालांकि, सरकार बांग्लादेश से सटे असम और पश्चिम बंगाल के सीमावर्ती इलाकों में चल रहे मदरसों को लेकर जरूर सतर्क है। यहां काफी मदरसे बांग्लादेशी नागरिकों के सहयोग से चल रहे हैं। यहां के कई शिक्षक भी बांग्लादेशी हैं। इन मदरसों के बारे में अलग से रिपोर्ट तैयार की जा रही है। सूत्रों का कहना है कि बर्दवान विस्फोट की घटना में एक मदरसा शिक्षक को भी कथित तौर पर लिप्त पाया गया था। उसका संबंध बांग्लादेश से बताया गया है।

सुरक्षा एजेसियां यह जानने का प्रयास कर रही है कि आखिरकार बांग्लादेश सीमा के आसपास चल रहे मदरसों के तार कहां से जुड़े हैं। ये कहीं और से संचालित तो नहीं हो रहे हैं? इतना ही नहीं इनमें काम कर रहे विदेशी नागरिकों पर भी सुरक्षा एजेंसियों की पैनी नजर है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मदरसों का जेहाद से कोई लेना-देना नहीं