DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में राजनाथ ने ली अधिकारियों की क्लास

दिल्ली में राजनाथ ने ली अधिकारियों की क्लास

दिल्ली में चुनाव की तैयारी में जुटी भाजपा कानून व्यवस्था और नागरिक सुविधाओं से जुड़े मुद्दों पर फ्रंट फुट पर दिखना चाहती है। लिहाजा गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को आम लोगों से जुड़े मसलों पर अधिकारियों की क्लास ली। उन्होंने दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर की मौजूदगी में कानून व्यवस्था, एमसीडी के कामकाज, सफाई अभियान, डिलीवरी सिस्टम,परिवहन समस्याओं से लेकर झुग्गी झोपड़ी तक की सुध ली। उन्होंने अधिकारियों से बारी बारी से पूछा कि उन्होंने अब तक क्या किया और अगले कुछ महीनों के लिए क्या योजना है। करीब ढाई घंटे चली बैठक में दिल्ली के सभी आला अधिकारी मौजूद थे।

गृहमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि वे जल्द समय सीमा तय करके आम लोगों से जुड़े मुद्दों पर त्वरित फैसले करें। गृहमंत्री ने दिल्ली के पुलिस आयुक्त से कानून व्यवस्था को लेकर खास सतर्कता बरतने को कहा। सूत्रों के मुताबिक राजनाथ ने कहा कि लोगों को भयमुक्त महसूस करना चाहिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली को सुरक्षित राजधानी बनाने में कोई कसर नहीं छोड़े।

नकली कर्मचारियों पर क्या हुआ?
गृहमंत्री ने यह भी पूछा कि एमसीडी में नकली कर्मचारियों के मसले पर अब तक क्या किया गया। उन्होंने कहा सरकार भ्रष्टाचार के मसले पर कठोर है। कालोनियों के नियमितीकरण और परिवहन सुविधाओं को लेकर भी उन्होंने जानकारी हासिल की। उन्होंने अस्पतालों में गंदगी दूर करने और लोगों को स्वास्थ्य की बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने के संबंध में भी सुझाव दिए।

कम समय में काम ज्यादा
सूत्रों के मुताबिक अधिकारियों से कहा गया कि वे कम समय में बेहतर नतीजे देने का प्रयास करें। सूत्रों ने कहा कि भाजपा को चुनाव से पहले दिल्ली में ठोस मुद्दों की तलाश है। केंद्र सरकार चाहती है कि चुनाव से पहले कामकाज की ऐसी फेहरिश्त होना चाहिए जिसकी चर्चा मुददें के तौर पर की जा सके।

दिल्ली में आम आदमी पार्टी अपनी 49 दिनों की सरकार को केंद्र सरकार के  छह महीनों से बेहतर बताकर कैंपेन शुरु कर चुकी है। सूत्रों के मुताबिक भाजपा नेतृत्व मान रहा है कि दिल्ली का पिछला विधानसभा चुनाव कांग्रेस सरकार के कुशासन और एंटी इन्कंबेसी रुझान की छाया में लड़ा गया था। लेकिन इस बार चुनाव में भाजपा को अपने काम के आधार पर मैदान में उतरना होगा। इसलिए ऐसे मसलों पर सरकार सतर्क है जिनका सीधा संबंध केंद्र से है।

गृहमंत्री ने साफ तौर पर कहा कि लोगों को लगना चाहिए कि केंद्र के गुड गवर्नेस का असर दिल्ली पर पड़ा है। इसका आकलन नतीजों से ही होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली में राजनाथ ने ली अधिकारियों की क्लास