DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगा किनारे गांवों में बनेंगे विशेष तरह के शौचालय

गंगा किनारे गांवों में बनेंगे विशेष तरह के शौचालय

गंगा के किनारे बसे गांवों में विशेष डिजाइन के शौचालय बनाए जाएंगे। गंगा निर्मल अभियान की कमान संभाल रही केंद्रीय गंगा संरक्षण मंत्री उमा भारती ने बुधवार को केंद्रीय ग्रामीण विकास व पेयजल स्वच्छता मामलों के मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह से मुलाकात करके गंगा को साफ करने में दोनों मंत्रालयों के समन्वय पर चर्चा की।

उमा भारती ने कहा कि गंगा को उद्योग, सीवर से जाने वाले गंदे पानी और नालों की गंदगी से बचाना है। इसके अलावा गंगा के किनारे बसे गांव में बनने वाले शौचालय ऐसे हों, जिससे उनकी गंदगी गंगा में बहकर न जाए। उन्होंने पेयजल स्वच्छता मामलों के मंत्रालय के सचिव से कहा कि वे हर हाल में सुनिश्चित करें कि गंगा के किनारे बसे 1650 चिन्हित गांव के शौचालयों का सीवेज सिस्टम ऐसा हो कि इनकी गंदगी गंगा या सहायक नदियों में नहीं जाए।

गंगा में गंदगी किसी सूरत में न जाए
मंत्रालय के सचिव से बात करते वक्त उमा के तेवर सख्त थे। उन्होंने कहा कि क्या काम कैसे होगा वे तय करें, लेकिन योजना ऐसी बने कि गंगा में गंदगी किसी सूरत में नहीं जानी चाहिए। उन्होंने सचिव से कहा कि तीन माह में शौचालयों का डिजाइन तक नहीं तय किया गया। उमा की बात सुनने के बाद केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री ने अपने सचिव से कहा कि उमा जी ने जो कुछ कहा है, उस पर पूरी तरह से अमल किया जाए। उन्होंने यह भी भरोसा दिया कि उनका मंत्रालय गंगा सफाई को लेकर हर तरह से सहयोग देगा।

राजनाथ से भी मिली उमा
बाद में उमा भारती गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिलने गईं। उन्होंने मुलाकात के बाद कहा कि राजनाथ सिंह भाजपा में गंगा के प्रभारी थे। मैंने उनसे कहा था कि गंगा मुझे दे दीजिए। अब मैं मंत्री हूं। मैं उनसे गंगा निर्मल अभियान की प्रगति पर बात करने गई थी।

कोई कसर नहीं छोड़ेंगे
उमा भारती ने कहा कि गंगा को निर्मल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि मैंने उद्योग जगत के लोगों से चर्चा की है। उनसे कहा है कि वे जल्द ऐसे प्रबंध करें कि गंगा में उद्योगों का कचरा गंदगी न जाए। प्रदूषण बोर्ड के लोगों से चर्चा की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गंगा किनारे गांवों में बनेंगे विशेष तरह के शौचालय