DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शीतकालीन सत्र के लिए बनी विधायी कार्यों की सूची

शीतकालीन सत्र के लिए बनी विधायी कार्यों की सूची

केंद्र सरकार संसद के शीतकालीन सत्र में ज्यादा से ज्यादा विधायी कार्य निपटाने की कोशिश करेगी। सरकार ने 24 नवंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र में पारित कराने के लिए 26 विधेयकों की सूची बनाई है, जबकि 23 दिसंबर तक चलने वाले इस सत्र में कुल 22 बैठकें होगी। इनमें से चार दिन सांसदों के निजी विधेयकों पर चर्चा होगी।

संसदीय कार्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सरकार करीब 40 विधेयकों को संसद में पेश करेगी। इन विधेयकों में विवाह कानून (संशोधन) विधेयक, खान एवं खनिज (विकास एवं नियमन) संशोधन विधेयक, एंटी हाइजैकिंग बिल और राष्ट्रीय महिला आयोग को कानूनी शक्तियां देने सहित कई अहम विधेयक शामिल हैं।

इसके अलावा सरकार जीएसटी विधेयक, बीमा संशोधन विधेयक और बीमा क्षेत्र में एफडीआई की सीमा बढ़ने से संबंधित विधेयकों को भी संसद की मंजूरी दिलाने की कोशिश करेगी। संसद में इस वक्त 67 विधेयक लंबित है। इनमें से 59 विधेयक राज्यसभा और आठ विधेयक लोकसभा में लंबित हैं। मंत्रालय का कहना है कि उसकी कोशिश ज्यादा से ज्यादा विधेयकों को पारित करा उन्हें कानून की शक्ल देना होगी।

हंगामेदार रहेगा सत्र
संसद का शीतकालीन सत्र हंगामेदार रहने की उम्मीद है। महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना से आमने-सामने आने के बाद शिवसेना संसद में तस्वीर बदल सकती है। लोकसभा में शिवसेना के 18 सांसद हैं। शिवसेना के सरकार का विरोध करने पर कमजोर पड़े विपक्ष की आवाज बुलंद होगी। कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियां भी कालाधन, महंगाई और सांप्रदायिक हिंसा के मुद्दे पर संसद में सरकार को घेरने की कोशिश करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शीतकालीन सत्र के लिए बनी विधायी कार्यों की सूची