DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के स्वागत के लिए तैयारियां जोरों पर

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के स्वागत के लिए तैयारियां जोरों पर

देश के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के पहली बार वृन्दावन आगमन पर जिला प्रशासन, अक्षयपात्र के साथ बांकेबिहारी मंदिर भी विशेष तैयारियों में जुटा है। मंदिर के अन्दर और बाहर सफाई और रंग रोगन का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। वहीं अत्याधुनिक सुरक्षा के प्रबंधन किए गए हैं। इसमें जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाने के साथ ही विशेष सुरक्षा के प्रबंध किए गए हैं।

जिला प्रशासन द्वारा मिले दिशा निर्देशों के बाद मंदिर प्रबंधन हरकत में आ गया है। मंदिर के बाहर की सभी दीवारों और पोस्ट ऑफिस पर रंग रोगन का कार्य किया जा रहा है। इस कार्य में एक दजर्न से अधिक मजदूरों को लगाया गया है जो कि मंदिर के गेट संख्या से तीन तक सभी गेटों पर रंगाई का कार्य कर रहे हैं। इसके अलावा वृन्दावन के स्वर्णकारों के जरिए मंदिर के गर्भगृह के चांदी के द्वार की भी सफाई कराई जा रही है। इतना नहीं मंदिर के अन्दर जगमोहन एवं वीआपी गैलरी जहां से राष्ट्रपति प्रभु दर्शन करेंगे। उन स्थानों पर लगे संगमरमर के पत्थरों के विशेष कारीगरों द्वारा सफाई कर पॉलिश की जा रही है। मदिर के प्रशासन प्रबंधक मुनीष कुमार ने बताया कि मंदिर की विशेष प्रकार की सफाई और साज सज्जा का कार्य किया जा रहा है। इसके लिए दो दजर्न से अधिक कर्मचारियों को लगाया गया है। जो कि दिनरात कार्य कर रहे हैं।

केवड़ा और गुलाब की सुंगध से महकेगा बिहारीजी मंदिर
 मंदिर में प्रभु दर्शन के लिए आ रहे राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के लिए प्रबंधन ने स्वागत के लिए विशेष इंतजामात किए हैं। 16 नवंबर को मंदिर गुलाब और केवड़ा के सुगंध से महकेगा। मंदिर प्रबंधन ने कन्नौज से इसके लिए इत्र लाया जा रहा है। उस दिन मंदिर में दो तरह का इत्र छिड़का जाएगा।

साढ़े दस बजे के बाद आम भक्तों का प्रवेश वर्जित
सुप्रसिद्ध बांकेबिहारी मंदिर में 16 नवंबर को प्रात: साढ़े दस बजे के बाद आम भक्तों को प्रभु दर्शन के लिए प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। मंदिर प्रबंधन ने यह निर्णय जिला प्रशासन के निर्देश पर राष्ट्रपति के मंदिर आगमन पर सुरक्षा की दृष्टि से लिया गया है। बांकेबिहारी मंदिर के प्रशासनिक प्रबंधक मुनीष कुमार ने बताया कि देश के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी वृन्दावन आगमन पर ठा. बांकेबिहारी मंदिर में दर्शन करने आएंगे। इस संबंध में जिलाप्रशासन एवं पुलिस प्रशासन की संयुक्त बैठक में दिए गए दिशा निर्देश के अनुसार अब आम दर्शनार्थी 16 नवंबर को प्रभु बांकेबिहारी के मंदिर में प्रात: साढे दस बजे तक ही दर्शन के लिए प्रवेश कर पाएंगे। इसके बाद राष्ट्रपति के दर्शन करने और मंदिर से प्रस्थान करने तक उनकी सुरक्षा कारण से मंदिर में आम भक्तों का प्रवेश वजिर्त होगा। मंदिर प्रशासन ने आम भक्तों को होने वाली इस असुविधा के लिए खेद प्रकट किया है।

पुष्पों से सजेगा बांकेबिहारी मंदिर
सुप्रसिद्ध बांकेबिहारी मंदिर को 16 नवंबर को देशी एवं विदेशी पुष्पों से सजाया जाएगा। मंदिर की परिक्रमा, चबूतरा से लेकर जगमोहन तक अनेक पुष्पों से मंदिर का सुसज्जित किए जाने की तैयारी शुरु हो गई हैं। प्रभु के पुष्प बंगला तैयार करने वाले बंगला विशेषज्ञ ताजातरीन पुष्प, केला के पेड़ लाने की व्यवस्था कर रहे हैं। 15 नवंबर की रात को ही कारीगरों द्वारा पुष्पों से मंदिर को सजाने का कार्य किया जाएगा। यह कार्य मंदिर के सह प्रबंधक उमेश सारस्वत के निर्देशन में होगा।

75 कर्मचारी, 27 गार्ड रहेंगे तैनात
बांकेबिहारी मंदिर में जहां पुलिस बल और सेना के जवान चप्पे-चप्पे पर तैनात रहेंगे वहीं मंदिर के कर्मचारी मंदिर की निर्धारित यूनीफार्म में आईकार्ड लगाए कदम-कदम सेवा में रत रहेंगे। वहीं सुरक्षा की दृष्टि से 27 सुरक्षा गार्ड भी तैनात रहेंगे।बांकेबिहारी मंदिर के प्रबंधतंत्र ने बताया कि जिस दिन राष्ट्रपति मंदिर में दर्शन करने आएंगे। उस दिन मंदिर के सेवायत, कर्मचारी, सुरक्षा गार्ड, प्रभु सेवक हरगूलाल सेठजी के लोग, मंदिर प्रबंध समिति के पदाधिकारी की संख्या निर्धारित की गई है। सभी के पास परिचय पत्र होंगे। प्रबंधतंत्र ने बताया कि राष्ट्रपति की सुरक्षा को दृष्टिगत अनावश्यक लोगों को मंदिर से बाहर रखा जाएगा। मंदिर में सिर्फ चार सेवायत गोस्वामी, 75 कर्मचारी, 27 सुरक्षा गार्ड, प्रभु हरगूलाल सेठजी की हवेली के चार लोग एव बांकेबिहारी मंदिर प्रबंध कमेटी के सात पदाधिकारी मौजूद रहेंगे। उक्त सभी लोगों की पूर्ण जानकारी जिला प्रशासन को भेजी जा रही है। 44 सीसीटीवी कैमरों की रहेगी पैनी नजर वृन्दावन। राष्ट्रपति की सुरक्षा को दृष्टि रखते हुए मंदिर प्रबंधन ने भी 44 सीसीटीवी कैमरे लगाने के साथ ही वातानुकलित कंट्रोल रुम तैयार किया है। मंदिर के आंतरिक भाग के अलावा मंदिर का चबूतरा और परिक्रमा पर तीसरी आंख की नजर होगी। इन सभी सीसीटीवी कैमरों की कंट्रोलिंग के लिए मंदिर के कार्यालय के निकट प्रथम तल पर कंट्रोल रुम तैयार किया गया है। इसमें लगी बड़ी एलसीडी पर मंदिर के बाहरी और आंतरिक हिस्से का पल-पल पर हाल देखा जा सकेगा। इस कंट्रोल रुप में मंदिर के दो तकनीशियन तैनात किए जा रहे हैं।



मंदिर की छत पर बनेंगे निगरानी टॉवर होंगे कंट्रोम रुम से कनेक्ट
मंदिर की छत पर राष्ट्रपति की सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस प्रशासन द्वारा विशेष प्रबंध किए जा रहे हैं। इसमें मंदिर की छत पर निगरानी टावर लगाए जाएंगे। यह निगरानी टॉवर पुलिस कंट्रोल रुम से कनेक्ट होंगे। इसके अलावा निगरानी टावर एवं सुरक्षा दस्ता की कनेक्टविटी के लिए मंदिर के गेट संख्या एक पर कंट्रोल रुम बनाया जा रहा है। इस कंट्रोल रुम का संचालन पुलिस प्रशासन द्वारा किया जाएगा। मंदिर के चार गोस्वामी राष्ट्रपति से कराएंगे पूजन, अर्चन वृन्दावन। सुप्रसिद्ध बांकेबिहारी मंदिर में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से प्रभु पूजन अर्चना मंदिर के चार सेवायत गोस्वामियों द्वारा कराई जाएगी। चार सेवायत गोस्वामियों की सूची मंदिर प्रबंधन से जिला प्रशासन को भेजी जा चुकी है। ठा. बांकेबिहारी मंदिर में 16 नवंबर को चार सेवायतों में मनु गोस्वामी, अनुज गोस्वामी, प्रदीप गोस्वामी एवं बालकृष्ण गोस्वामी अपने आराध्य बांकेबिहारी की सेवा, पूजा करेंगे। उक्त गोस्वामी ही राष्ट्रपति प्रणबमुखर्जी को दर्शन कराने के साथ ही उनसे प्रभु का पूजन करांएगें। पूजन के पश्चात उन्हें प्रभु के अंगवस्त्र, प्रसाद, पटुका और पुष्पमाला देंगे। इन चारों गोस्वामियों के नामों की सूची मंदिर प्रबंधन ने जिला प्रशासन को भेज दी है। साथ ही इनका पूर्ण विवरण भी भेजा गया है।



राष्ट्रपति को देंगे प्रभु का प्रिय भोग दूधभात
राष्ट्रपति के दर्शन के दौरान मंदिर में प्रभु सेवा में रहने वाले मंदिर के सेवायत प्रदीप गोस्वामी ने हर्ष जताते हुए कहा कि यह गौरव की बात है कि वह हमारे परिवार द्वारा की जा रही प्रभु सेवा के दौरान आ रहे हैं। मैने आज से करीब एक दशक से पूर्व उपराष्ट्रपति के मंदिर प्रभु दर्शन के लिए आने पर उन्हें दर्शन कराए और प्रभु सेवा कराई थी। मैं अपने को बड़ा ही धन्य समझ रहा हूं के देश के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को हम प्रभु आराधना और सेवा कराएंगे। उनको विशेष तौर से प्रभु का प्रिय भोग दूध भात दिया जाएगा। जो कि कही नही सिर्फ बांकेबिहारी मंदिर में ही प्रभु सेवा में लाया जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के स्वागत के लिए तैयारियां जोरों पर