DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एएमयू प्रशासन ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय को भेजा जवाब

वीसी जमीरउद्दीन शाह के बयान पर छिड़े विवाद के बाद केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रलय ने एएमयू प्रशासन से जवाब तलब किया था। इस पर एएमयू की ओर से अपना पक्ष मंत्रालय को भेज दिया गया है। इसमें कहा गया है कि छात्रओं के साथ किसी तरह का भेदभाव या रोकटोक नहीं की जा रही। साथ ही मौलाना आजाद लाइब्रेरी में छात्रओं का प्रवेश प्रतिबंधित नहीं हैं।

 एएमयू के पीआरओ डॉ. राहत अबरार ने बताया कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रलय के सचिव ने प्रबंधन से पूछा था कि विमेंस कॉलेज और मौलाना आजाद लाइब्रेरी के बीच की दूरी कितनी है। विवाद को लेकर दो अन्य सवाल भी पूछे थे। उनके सवालों का जवाब भेज दिया गया है। इसमें बता दिया गया है कि विमेंस कॉलेज की लाइब्रेरी से दूरी करीब तीन किलोमीटर है। यह भी बताया गया है कि विमेंस कॉलेज में अलग लाइब्रेरी है। यही नहीं उन्हें मौलाना आजाद लाइब्रेरी से किताबें लोन डेस्क सुविधा के जरिए उपलब्ध कराई जाती है। अवगत करा दिया गया है कि मौलाना आजाद लाइब्रेरी में छात्रओं पर प्रतिबंध नहीं है। बीटेक, एमबीबीएस, स्नातकोत्तर, व्यवसायिक कोर्स और शोधार्थी छात्रओं को वहां की सदस्यता है। यह भी जानकारी दी गई है कि 1960 से यूनिवर्सिटी में यही व्यवस्था है, कोई बदलाव नहीं किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एएमयू प्रशासन ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय को भेजा जवाब