DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुख्यमंत्री मांझी ने सवर्णों को बताया 'विदेशी'

अपने विवादित बयानों से सुर्खियों में रहने वाले बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी एक बार फिर सवर्ण जाति को ‘विदेशी’ बताकर विवाद में फंसते नजर आ रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मुख्यमंत्री के इस बयान को बिहार में जातीय तनाव फैलाने वाला और समाज को जाति के नाम पर बांटने वाला बताकर मुख्यमंत्री पर निशाना साधा है।

मांझी ने मंगलवार की शाम पश्चिम चंपारण के होटल वाल्मीकि विहार परिसर में आयोजित स्वागत समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि सवर्ण जाति के लोग विदेशी हैं। यहां के मूल निवासी आदिवासी, अनुसूचित जाति और गरीब लोग हैं। उन्होंने लोगों से राजनीतिक चेतना जगाते हुए अपनी सरकार खुद बनाने का आह्वान भी किया।

इधर, भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मुख्यमंत्री के इस बयान को लेकर हमला बोल दिया है। मोदी ने बुधवार को कहा कि मांझी ऐसे बयान देकर बिहार में जातीय तनाव फैलाना चाहते हैं तथा समाज को जाति के नाम पर बांटना चाहते हैं।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री मांझी ने पिछले दिनों मधुबनी के दौरे के बाद महादलित परिवार के लोगों के साथ भेदभाव का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि मधुबनी में एक मंदिर में उनके प्रवेश के बाद मंदिर को धोया गया। इसके बाद पूरे मामले की जांच के लिए एक समिति का गठन किया गया। मोदी ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री चर्चा में रहने के लिए ऐसे बयान देते रहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुख्यमंत्री मांझी ने सवर्णों को बताया 'विदेशी'