DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विधानसभा चुनाव पर गहराया नक्सलियों का साया

विधानसभा चुनाव को प्रभावित करने के लिए नक्सली सक्रिय हो गए हैं। राज्य के 24 में से 18 जिले घोर उग्रवादग्रस्त हैं। इन जिलों में निष्पक्ष चुनाव कराना पुलिस और प्रशासन के लिए एक बड़ी चुनौती है। 81 विधानसभा सीटों पर पांच चरणों में होनेवाले मतदान के लिए सीआरपीएफ की करीब ढाई सौ कंपनियां तैनात की जानी हैं।

साथ ही भारी संख्या में जिला बल और जैप के जवान भी लगाए जाएंगे। नक्सलियों ने चुनाव बहिष्कार के लिए पर्चा-पोस्टर साटने की शुरुआत कर दी है। सात नवंबर को गुमला के बिशनुपुर थाना क्षेत्र के रेटे टोली चावर चंडी के पास नक्सलियों ने ऐसा पोस्टर साटकर लोगों से चुनाव से दूर रहने को कहा था।

रांची की स्थिति : रांची में वर्ष 2010 में नक्सलियों ने पांच लोगों की हत्या कर दी थी और 20 घटनाओं को अंजाम दिया था। पुलिस की ओर से छह इनकाउंटर हुए थे। 2011 में सात लोगों की हत्या हुई। 15 घटनाएं हुईं और छह इनकाउंटर हुए। वर्ष 2012 में 11 लोगों की हत्या हुई। नक्सली हिंसा की 18 घटनाएं हुईं, लेकिन कोई इनकाउंटर नहीं हुआ।

वर्ष 2013 में आठ लोगों की हत्या नक्सलियों ने कर दी। 17 घटनाएं हुईं। वहीं दो इनकाउंटर हुए। इस वर्ष अक्तूबर माह तक पांच लोगों की मौत हो चुकी है। सात घटनाओं को नक्सलयों ने अंजाम दिया है और तीन इनकाउंटर हुए हैं। रांची में महाराज प्रमाणिक और उसका दस्ता, राम मोहन मुंडा, नरेंद्र पातर, डींबा पाहन, गुलशन मुंडा का दस्ता सक्रिय है।

लोहरदगा : लोहरदगा में वर्ष 2010 में एक व्यक्ित की हत्या हुई थी। नक्सली हिंसा की 19 घटनाएं और दो इनकाउंटर हुए थे। वर्ष 2011 में 20 घटनाएं हुई, एक इनकाउंटर हुआ। वर्ष 2012 में 11 घटनाएं हुईं, एक इनकाउंटर, वर्ष 2013 में एक व्यक्ति की हत्या हुई। 20 घटनाएं हुईं औ एक इनकाउंटर हुआ। अक्तूबर माह तक इस वर्ष तीन व्यक्तियों की हत्या कर दी गयी। 13 घटनाओं को अंजाम दिया गया, लेकिन कोई भी इनकाउंटर लोहरदगा में नहीं हुआ। यहां नक्सली नकुल यादव का दस्ता सक्रिय है।

गुमला : वर्ष 2010 में 10 लोगों की हत्या नक्सलियों ने की थी। 23 घटनाओं को अंजाम दिया और सात इनकाउंटर हुए। वर्ष 2011 में 28 लोगों की हत्या हुई। 40 घटनाओं को नक्सलियों ने अंजाम दिया, तीन इनकाउंटर हुए। वर्ष 2012 में 25 व्यक्तियों की हत्या हुई, 38 घटनाओं को अंजाम दिया गया, तीन इनकाउंटर हुए। वर्ष 2013 में 22 लोगों की हत्या हुई, 43 घटनाओं को अंजाम दिया और सात इनकाउंटर हुआ। अक्तूबर 2014 में 14 लोगों की हत्या हुई, 29 घटनाओं को अंजाम दिया गया, पांच इनकाउंटर हुए। यहां नक्सली संजय गंझू, नकुल यादव और नीतीश यादव के दस्ते सक्रिय हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विधानसभा चुनाव पर गहराया नक्सलियों का साया