DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंतरराष्ट्रीय समुद्री नियमों का सम्मान जरूरी: मोदी

अंतरराष्ट्रीय समुद्री नियमों का सम्मान जरूरी: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आसियान देशों से कहा कि समुद्री मामलों में सभी देशों की अंतरराष्ट्रीय कानून और नियमों का पालन करने की जिम्मेदारी होती है। उनके इस बयान को चीन के कुछ दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों के साथ समुद्री विवाद के संदर्भ में महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

मोदी ने म्यांमार की राजधानी में आयोजित 12वें भारत-आसियान शिखर सम्मेलन में दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के नेताओं से कहा कि सभी की जिम्मेदारी है कि हम समुद्री मुददों पर अंतरराष्ट्रीय कानून और नियमों का पालन करें जैसा कि हम वायु क्षेत्र में करते हैं।

मोदी ने किसी देश का नाम तो नहीं लिया लेकिन उनकी इस टिप्पणी को चीन के संदर्भ में देखा जा सकता है जिसका जापान, वियतनाम और फिलिपींस समेत उसके कई पड़ोसी देशों के साथ समुद्री विवाद है। मोदी की हालिया अमेरिका यात्रा के दौरान उन्होंने और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर सहमति जताई थी।

उन्होंने अपने जापान दौरे में भी कुछ देशों की विस्तारवादी प्रवृत्ति की निंदा की थी जो दूसरे देशों के समुद्री क्षेत्र में अतिक्रमण करते हैं। परोक्ष रूप से उनकी यह टिप्पणी चीन के खिलाफ ही देखी जा रही थी जिसका पूर्वी चीन सागर में द्वीपों को लेकर जापान के साथ भी समुद्री विवाद है।

आसियान में 10 देश शामिल हैं जिनमें ब्रूनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलिपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अंतरराष्ट्रीय समुद्री नियमों का सम्मान जरूरी: मोदी