DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एएमयू लाइब्रेरी में छात्राओं के प्रवेश का मुद्दा गरमाया

एएमयू लाइब्रेरी में छात्राओं के प्रवेश का मुद्दा गरमाया

एएमयू के सीनियर सेकेंडरी स्कूलों के विद्यार्थियों को पहले मौलाना आजाद लाइब्रेरी की सदस्यता मिलती है। पर अब नहीं दी जाती। जिनकी थी, उनकी सदस्यता भी रद कर दी गई। मौलाना आजाद लाइब्रेरी के लाइब्रेरियन की मानें तो जगह की कमी को देखते हुए ऐसा किया गया था।

लाइब्रेरियन डॉ. अमजद अली ने बताया कि सीनियर सेकेंडरी स्कूलों के छात्रों की संख्या काफी है। उनकी भीड़ बहुत होती थी। इस कारण दो साल से इन छात्रों के लिए अलग लाइब्रेरी कर दी गई है। वहीं उनकी जरूरत की किताबें मुहैया करा दी गई हैं। यहां से उनका अब नाता नहीं रहा। लाइब्रेरी का विस्तार किया जा रहा है। फिर भी यहां सदस्यों की संख्या बढ़ाना दिक्कत भरा रहेगा।

अमुटा अध्यक्ष बोले लाइब्रेरी छात्राओं की जरूरत
एएमयू टीचर्स एसोसिएशन (अमुटा) अध्यक्ष प्रो. हामिद अली ने मौलाना आजाद लाइब्रेरी को विमेंस कॉलेज की छात्राओं की जरूरत बताया है। उनका मानना है जो सुविधा बाकी छात्र-छात्राओं को मिली है। उससे विमेंस कॉलेज की छात्राओं को वंचित क्यों रखा जा रहा है। प्रो. अली ने बताया कि वह कॉलेज की अलग यूनियन के पक्ष में भी नहीं थे। पर उनकी नहीं मानी गई। एएमयू के पेट्रोलियम विभाग में प्रो. हामिद अली अमुटा अध्यक्ष हैं।

उन्होंने वीसी के बयान पर कोई टिप्पणी नहीं की। यह जरूर बताया कि मौलाना आजाद लाइब्रेरी की सदस्यता विमेंस कॉलेज की छात्राओं की जरूरत है। यह हो सकता है कि उनका समय सीमित रखा जाए। उनको एक समय में बस से लाया ले जाया जाए। पर सदस्यता न दिया जाना गलत है। प्रो. अली ने कहा कि विमेंस कॉलेज एएमयू का अहम अंग है। पुरानी व्यवस्था चली आ रही है तो उसमें वक्त के साथ बदलाव करना वीसी की जिम्मेदारी है। कम जगह की बात कह कर वह पीछे नहीं हट सकते।

वीसी का बया आश्चर्यजनक : सांसद
सांसद सतीश गौतम ने एएमयू वीसी जमीरउद्दीन शाह का बयान आश्चर्यजनक बताया है। वीसी के अहम पद पर बैठे सुशोभित व्यक्ति की मानसिकता मुगल काल की याद दिलाती है। एक तरफ वह यूनिवर्सिटी को अव्वल स्थान पर देखना चाहते हैं। दूसरी तरफ वह कह रहे हें कि जगह की कमी के कारण विमेंस कॉलेज की छात्राओं को प्रवेश नहीं दिया जा सकता। सांसद ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नारी सशक्तिकरण और नारी उदय की बात कर रहे हैं। एएमयू वीसी लोकतंत्र की परंपरा पर चोट कर रहे हैं। सांसद ने वीसी की घोर निंदा की है।

एबीवीपी ने एएमयू वीसी का पुतला फूंका
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने मंगलवार को एएमयू वीसी का पुतला फूंका। राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से एएमयू वीसी के तत्काल बर्खास्त की मांग की है। एबीवीपी के महानगर आंदोलन प्रमुख धीरज चौधरी की अगुवाई में पुतला फूंका गया। विभाग प्रमुख डॉ. पुष्पेंद्र पचौरी ने कहा कि जब से वीसी जमीरउद्दीन शाह आए हैं, एएमयू में छात्राओं पर अत्याचार बढ़ा है।

ईरानी छात्रा से छेड़छाड़ की घटना हुई। एएमयू गेस्ट हाउस में आईआईटी की छात्रा से छेड़छाड़ हुई। अब वीसी का तालिबानी बयान है कि विमेंस कॉलेज की छात्राएं मौलाना आजाद लाइब्रेरी में सदस्य नहीं बन सकती। छात्र नेता आरुषि वार्ष्णेय ने कहा कि आधी आबादी का अपमान वीसी ने किया है। पुतला दहन में महानगर मंत्री निखिल माहेश्वरी, अतुल राजाजी, संजू बजाज, गीता शर्मा आदि शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एएमयू लाइब्रेरी में छात्राओं के प्रवेश का मुद्दा गरमाया