DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नाराज लैब असिस्टेंट ने काम का किया बहिष्कार

आठ माह से वेतन न मिलने से नाराज लैब असिस्टेंट ने मंगलवार को सरकारी स्कूलों की लैब में काम करने से बहिष्कार कर दिया।  जिला के लैब असिस्टेंट ने कमला नेहरू पार्क में बैठक की। जिसमें उन्होंने कांट्रेक्टर द्वारा की जा रही मनमानी को रोकने और वेतन दिए जाने की मांग को लेकर धरना देने का निर्णय लिया। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि जब तक उनकी मांगे नही मानी जाती तब तक कंप्यूटर लैब का बहिष्कार किया जाएगा।


 हरियाणा कंप्यूटर लैब सहायक संघ के जिला प्रधान उमेश सैनी ने बताया कि सरकारी स्कूलों में बनी इंफारमेशन कंप्यूटर टेक्नोलॉजी (आईसीटी) लैब असिस्टेंटस के पद पर 100 असिस्टेंटस कार्यरत हैं। यह असिसटेंट एचसीएल, सनमीलिया तथा एवरऑन के अंतरगत कांट्रेक्ट पर है।गुड़गांव में ही नहीं बल्कि पूरे हरियाणा में कार्यरत 713 लैब असिस्टेंटों को उक्त कंपनियों के तहत कांट्रेक्ट पर लगाया गया है। जब से उन्हें सरकारी स्कूलों में लैब में लगाया गया है तब से महज तीन हजार रुपए प्रतिमाह वेतन के नाम पर दिया जाता था।  अब पिछले आठ माह से कंपनी ने एक भी लैब असिसटेंट को वेतन नहीं दिया है। जिससे उनके सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है। इस संबंध में संघ  मुख्यमंत्री मनोहर लाल, शिक्षामंत्री राम बिलास शर्मा सहित शिक्षा विभाग के उच्चधिकारियों को भी अवगत करा चुके हैं।बैठक में संघ के रिशि यादव, प्रदीप, सुषमा यादव, अमरजीत, मनीषा, आशा, प्रवीन, पवन, प्रदीप, ममता, दीपक, मदन आदि भी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नाराज लैब असिस्टेंट ने काम का किया बहिष्कार